Supreme-Courtनयी दिल्ली,  उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि ऐसे समय में जब भ्रष्टाचार समूची व्यवस्था को कैंसर की तरह प्रभावित कर रहा है, अदालतों को ऐसे मामलों में सजा देते समय किसी प्रकार की दया नहीं दिखानी चाहिए। शीर्ष अदालत ने उप्र राज्य सड़क परिवहन निगम की बस में 1992 में बगैर टिकट 25 यात्रियों को ले जाने वाले संवाहक की सेवायें बर्खास्त करते हुये यह टिप्पणी की।

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति प्रफुल्ल सी पंत की पीठ ने कहा कि इस मामले में दोषी कर्मचारी ने यह सोचा कि जब कैंसर का रोग व्यवस्था को प्रभावित कर रहा है तो वह इसे और बढा सकता है। न्यायालय ने कहा कि इसका कृत्यु निन्दनीय है और इसके साथ किसी प्रकार की नरमी नहीं बरती जा सकती है।

Related Posts:

योगेंद्र-प्रशांत को कहे केजरीवाल ने अपशब्द
श्रद्धांजलि देने के बाद लोकसभा गुरुवार तक स्थगित
महागठबंधन से टूटी सपा, बिहार में अकेले लड़ेगी चुनाव
पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड की जांच तीन माह में करे सीबीआई : सुप्रीम कोर्ट
ईपीएफओ के स्थापना दिवस का उद्घाटन करेगीं महाजन
जीएसटी देश के कर ढांचे में सबसे बड़ा सुधार:नायडू