नयी दिल्ली,   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में पर्यटन का अध्यात्म से प्राचीन रिश्ता बताते हुए आज कहा कि ये अध्यात्मिक केंद्र समाज सुधार के केंद्र रहे हैं। श्री मोदी ने हरिद्वार में माँ उमिया धाम आश्रम का वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये उद्घाटन करते हुए यह बात कही।

उन्होंने कहा कि देश के अध्यात्मिक संस्थान समाज सुधार का सन्देश फ़ैलाने के केंद्र रहे हैं और पर्यटन का सम्बन्ध अध्यात्म की परम्परा से रहा है। प्राचीन काल से यह विद्यमान रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस आश्रम के उद्घाटन से तीर्थयात्रियों को फायदा होगा। उन्होंने कहा, “तीर्थाटन हमारी संस्कृति का हिस्सा रही है और इससे हम देश के उन कई भागों से परिचित होते हैं, जिसे हमने देखा नहीं होता है।”

श्री मोदी ने माँ उमिया के भक्तों की सेवाओं को रेखांकित करते हुए कहा कि इन लोगों ने मानव सेवा की है और लोगों को प्रेरित भी किया है। इन लोगों ने लैंगिक समानता का सन्देश भी दिया है। उन्होंने मेहसाना की महिलाओं की प्रशंसा की, जिन्होंने ‘बेटी बचाओ बेटी बढाओ’ का सन्देश समाज में फैलाया। उन्होंने श्रद्धालुओं से स्वच्छाग्राही बनने की अपील करते हुए कहा कि वे स्वच्छता मिशन को सफल बनाने में हाथ बटायें।

Related Posts: