किसान सम्मेलन का गिरा पंडाल, विज्ञान मेले पर भी दिखा असर

नवभारत न्यूज भोपाल,

तेज हवा के साथ अचानक हुई बारिश का असर कृषि ही नहीं , इसके निमित्त की जा रही तैयारियों पर भी पड़ा है. जम्बूरी मैदान में किसान महासम्मेलन के लिये लगाये गये टेंट अस्त-व्यस्त हो गये. वहीं दूसरी ओर भेल दशहरा मैदान में चल रहे विज्ञान मेले पर भी असर पड़ा है.

राजधानी के जम्बूरी मैदान में आयोजित होने वाले किसान महासम्मेलन के लिये बनाये गये पंडाल रविवार को तेज बारिश व ओले गिरने की वजह से गिर गये. साथ ही स्वागत गेट, रसोईघर, होर्डिंग्स, पोस्टर एवं अन्य व्यवस्थाओं को भी काफी नुकसान हुआ है.

कहा जा सकता है कि महासम्मेलन से पहले ही व्यवस्थायें पूरी तरह प्रभावित हुईं हैं. गौरतलब है कि इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री व अन्य मंत्रियों के अलावा प्रदेशभर से किसान सम्मिलित होंगे. वहीं कार्यक्रम प्रबंधन के अनुसार सभी व्यवस्थाओं को फिर से दुरुस्त किया जा रहा है. कल कार्यक्रम शुरू होने से पहले सभी व्यवस्थायें पूरी तरह से ठीक कर ली जायेंगी.

दूसरी तरफ मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद और विज्ञान भारती द्वारा आयोजित चार दिवसीय विज्ञान मेला जो कि 9 फरवरी से 12 फरवरी तक भेल के दशहरा मैदान में आयोजित किया जा रहा है, वहां पर भी तेज बारिश व ओले का असर देखने को मिला है.

मेले में लगाई गईं प्रदर्शनियां व अन्य आयोजन के लिये लगाये गये पंडालों को तेज बारिश व हवा के चलते काफी नुकसान हुआ है. इसी के साथ बारिश के चलते मेले में लाइट न होने की वजह से कम्पनियों के स्टॉल भी खाली दिखे.

मैदान में कीचड़ हो जाने के कारण लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. मौसम खराब हो जाने के कारण एक तो लोग मेले में पहुंचे ही नहीं और जो लोग मेले में पहंचे, वह भी बारिश और तेज हवाओं के चलते मेले में हुई अव्यवस्था के कारण काफी परेशान नजर आये. गौरतलब है कि आज मेले का समापन है.

Related Posts: