हार्दिक ने कहा मप्र सरकार के पास कोई नीति नहीं

भोपाल,

युवा किसान और रोजगार मप्र में मुख्य मुद्दा होगा. यह कहना है पाटीदार समाज के नेता हार्दिक पटेल का. वह राजधानी में पत्रकारों से मुखातिब हुए थे. इसके साथ ही कुपोषण और व्यापाम को अहम मुद्दा बताते हुए उन्होंने कहा जो लोग तमाशा देख रहे हैं उनको जागरूक होने की जरूरत है.

अब इस प्रदेश में लड़ाई सत्तारूढ़ भाजपा और आम जनता के बीच है न कि किसी अन्य दल के बीच. इस दौरान उन्होंने स्पष्ट किया कि वह भाजपा के खिलाफ इसलिए लड़ रहे हैं कि मंदसौर में भोले किसानों को गोलियों से भून दिया जाता है. मूल निवासियों और बेरोजगारों की बात नहीं की जाती है. लेकिन अब व्यापम की भेंट चढ़े दिवंगत युवाओं और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें को लागू करने की मांग करने वाले किसानों की बात भी होगी.

बेटों से भी पकौड़े बिकवाएं

हार्दिक पटेल ने राज्यपाल आनंदी बेन को बुआ बताया. लेकिन यह कहते हुए हमला किया कि उनके बेटे संजय और बेटी अनारा के द्वारा गुजरात में किस तरह का भ्रष्टाचार किया गया है वह किसी से छिपा नहीं है. एक सवाल के जबाव में उन्होंने कहा कि यदि बेन पकौड़े बनाने को हुनर कहती हैं, तो वह दूसरों के बजाय अपने बेटे-बेटियों को क्यों नहीं सिखाती हैं.

निशाने पर मोदी, शिवराज

युवा नेता हार्दिक पटेल ने पीएम मोदी और शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पीएनबी घोटाले में घेरते हुए कहा कि नीरव मोदी की जगह यदि कोई किसान होता तो अभी तक जेल के भीतर होता और उसका टै्रक्टर भी जब्त हो गया होता.

प्रत्येक आदमी के खाते में 15 लाख आयेंगे पर भी सवाल खड़े किए और कहा कि, वो तो नहीं आये लेकिन प्रत्येक आदमी को अपने खाते से पैसे की चिंता जरूर होने लगी है. जबकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को लेकर कहा कि वह राजनैतिक भाषण देने में माहिर है. मामा अच्छा है लेकिन शकुनिवाला पसंद नही है.

Related Posts: