जमैका,

वेस्टइंडीज़ के ऑलराउंडर आंद्रे रसेल अंतरराष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) के नियमों का उल्लंघन करने के कारण लगे एक वर्ष के लंबे निलंबन के बाद क्रिकेट में फिर से वापसी को तैयार हैं जिससे उनके इस वर्ष आईपीएल में अपनी टीम कोलकाता नाइटराइडर्स के लिये खेलने का रास्ता भी साफ हो गया है।

रसेल रीजनल सुपर-50 टूर्नामेंट में जमैका का प्रतिनिधित्व करेंगे जो निलंबन के बाद उनका पहला क्रिकेट टूर्नामेंट है। कैरेबियाई ऑलराउंडर पर वाडा के नियमों के तहत अपने निवास की जानकारी नहीं देने पर डोपिंग नियमों का उल्लंघन करने का दोषी करार देते हुये एक वर्ष के लिये निलंबित कर दिया गया था।

जमैका में एक स्वतंत्र ट्रिब्यूनल ने रसेल को 31 जनवरी 2017 से 30 जनवरी 2018 तक के लिये क्रिकेट के किसी भी प्रारूप से निलंबित कर दिया था। तीन सदस्यीय सुनवाई दल ने रसेल को वर्ष 2015 में 12 महीने के अंतराल में तीन बार अपने निवास की जानकारी नहीं देने का दोषी पाया था। वाडा नियमों के तहत ऐसा करने पर खिलाड़ी को डोप का दोषी करार दिया जाता है।

रसेल पिछले लंबे समय से दुनियाभर की ट्वंटी 20 लीगों में खेल रहे हैं और आईपीएल के मुख्य खिलाड़ियों में हैं। हाल ही में हुई आईपीएल नीलामी से पूर्व ही केेकेआर टीम ने उन्हें वेस्टइंडीज़ के सुनील नारायण के साथ ही रिटेन किया था। रसेल को कोलकाता ने 8.5 करोड़ रूपये की भारी रकम खर्च कर टीम में रिटेन किया है।

कैरेबियाई ऑलराउंडर फिलहाल सुपर-50 टूर्नामेंट के जरिये अपनी फिटनेस और प्रदर्शन पर काम करेंगे और उसके बाद 22 फरवरी से दुबई में शुरू होने जा रही पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में खेलेंगे जहां वह इस्लामाबाद यूनाईटेड की तरफ से खेलेंगे। इसके बाद वह आईपीएल के लिये भारत पहुंचेंगे।

रसेल वेस्टइंडीज़ के उन सीनियर खिलाड़ियों सुनील नारायण, डैरेन ब्रावो, कीरोन पोलार्ड की सूची में शामिल हैं जिन्होंने आगामी विश्वकप क्वालिफायर के बजाय पीएसएल में खेलने को अहमियत दी थी।

Related Posts: