नयी दिल्ली,

तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन द्वारा एक राज्यपाल के पत्र का उल्लेख किये जाने पर सभापति एम वेंकैया नायडु ने आज राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर दो बजे तक स्थगित कर दी।

सुबह कार्यवाही शुरू होते ही श्री ब्रायन ने एक पत्र की प्रति सभापीठ की ओर दिखाते हुये कहा कि राज्यपाल ने एक राज्य सरकार के विरोध में यह पत्र लिखा है। इसी दौरान तृणमूल कांग्रेस के अधिकांश सदस्य अपनी सींटो से उठ गये और श्री ब्रायन के निकट आकर खड़े हो गये।

इसी दौरान वामपंथी दलों सदस्य भी कुछ बोलने की कोशिश करने लगे तभी श्री नायडु ने कहा कि यदि सदस्य नहीं चाहते हैं कि सदन की बैठक हो तो वह इसकी कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित करते हैं।

सदन की काकार्यवाही इतनी जल्दी स्थगित हो गयी कि आज की कार्यसूची में दर्ज आवश्यक दस्तावेज भी सदन पटल पर नहीं रखे जा सके।

श्री नायडु के सदन से जाने के बाद लगभग सभी विपक्षी दलों के सदस्य सदन में जमे रहे और आपस में चर्चा करते दिखे। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, कांग्रेस के उप नेता आनंद शर्मा , समाजवादी पार्टी के नरेश अग्रवाल, वामपंथी डी राजा, टी के रंगराजन के साथ ही तृणमूल कांग्रेस के श्री ब्रायन एवं सुखेन्दु शेखर राय और दूसरे विपक्षी सदस्य सदन में आपस में बातचीत करते दिखे।