भोपाल निवासी व्यापारी के साथ हुई घटना, क्षेत्र में भय का माहौल

ग्राम बमुलिया खींची के पास हुई जघन्य वारदात

नवभारत न्यूज सीहोर/ आष्टा

दो दिन पहले मंगलवार की रात जिले के आष्टा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम बमूलिया खींची के समीप कार सवार भोपाल के व्यापारी को इनोवा में सवार बदमाशों ने रोका, लूटा और फिर कार में बंद कर कार को आग के हवाले कर गए.

किसी तरह व्यापारी बचकर निकला और सीहोर आकर पुलिस की मदद से उपचार कराया, लेकिन हादसे के बाद आष्टा पुलिस ने इस गंभीर व जघन्य मामले में प्राथमिकी दर्ज करने की वजह उसे आवेदन देने के लिए बाध्य कर दिया.

राजधानी भोपाल के एयरपोर्ट मार्ग स्थित इंद्रविहार कालोनी निवासी ईश्वर सेवानी आत्मज घनश्याम दास सेवानी का आटो पार्टस का कारोबार है. बताया जाता है कि गत 16 जनवरी को अपनी एसयूवी कार क्रमांक एमपी 04 सीके 8428 से इंदौर मार्बल खरीदने गए थे.

बताया जाता है कि रात लगभग 11 बजे काम निबट जाने के बाद वह भोपाल के लिए रवाना हुआ था. देर रात लगभग 12.45 बजे जब उसकी कार डोडी घाटी के पास पहुंची तो उसने साइड ग्लास में देखा कि एक इनोवा उसके पीछा कर रही थी.

ईश्वर सेवानी का कहना था कि उसने इनोवा की ओर कोई ध्यान नहीं दिया, लेकिन जैसे ही उसकी कार हाइवे स्थित ग्राम बमूलिया खींची के समीप पहुंची तभी पीछे चल रही इनोवा के चालक ने उसे ओव्हरटेक करते हुए आगे अड़ा दी. इनोवा में लगभग आठ लोग सवार थे, जिसमें से चार युवक नीचे उतरे और ईश्वर सेवानी को दबोच लिया.

लगभग 25 से 28 वर्ष के इन युवकों में से कुछ की दाड़ी भी थी. चारों बदमाशों ने उसके साथ मारपीट करते हुए जेब में रखा पर्स निकालकर उसमें से लगभग 18 हजार रुपए निकाल लिए और उसके मोबाइल की बेट्री निकालकर फैंक दी.

ईश्वर सेवानी के साथ मारपीट कर रहे बदमाशों ने उससे पूछा कि गाड़ी में पैसे कहां छुपाकर रखे हैं. जब ईश्वर सेवानी ने और पैसे होने की बात से इंकार किया तो चारों बदमाश उसे कार सहित गांव की तरफ जाने वाले रास्ते पर ले गए और गाड़ी की तलाशी ली. बदमाशों को जब कार में कुछ नहीं मिला तो उन्होंने ईश्वर सेवानी को कार में बैठने का आदेश दिया.

जैसे ही ईश्वर कार में बैठा तो बदमाशों ने अपने पास रखी कुप्पी में भरा ज्वलनशील पदार्थ कार में छिडक़ा और आग लगाकर भाग निकले. इस घटना में ईश्वर सेवानी का चेहरा और बाल जल गए. किसी तरह वह कार से बाहर निकला और जान बचाता हुआ हाइवे पर आया.

यहां आकर उसने एक ट्रक रोका और सीहोर क्रिसेंट चौराहा पहुंचा. उसकी गंभीर हालत देखते हुए पेट्रोल पंप कर्मचारी ने 100 डायल को सूचित किया. पुलिस ने जिला अस्पताल लाकर घायल ईश्वर सेवानी का उपचार कराया.