नयी दिल्ली,

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष अमित शाह ने कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या के कांग्रेस के आरोप पर पलटवार करते हुए आज कहा कि लोकतंत्र की हत्या तब हुई जब निहित स्वार्थ से प्रेरित होकर कांग्रेस ने जनता दल सेकुलर को अवसरवादी प्रस्ताव दिया था।

श्री शाह ने यहां ट्विटर पर कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष को अपनी पार्टी के गौरवशाली इतिहास की याद नहीं है। श्री राहुल गांधी की पार्टी का इतिहास है -भयावह अापातकाल, अनुच्छेद 356 का जम कर दुरुपयोग तथा अदालतों, मीडिया एवं सिविल सोसाइटी का दमन।

उन्होंने कहा कि कर्नाटक में क्या जनादेश आया है। भाजपा को 104 सीटें मिलीं, कांग्रेस की सीटें 78 रह गयीं जबकि उनके मुख्यमंत्री और मंत्री भारी अंतर से पराजित हुए है। जनता दल सेकुलर को केवल 37 सीटें मिलीं हैं और तमाम सीटों पर जमानत तक जब्त हो गयी। लोग बुद्धिमान हैं और सब समझते हैं।

श्री शाह ने कहा कि लोकतंत्र की हत्या उस क्षण हुई थी जब सत्ता की भूखी कांग्रेस ने जनता दल सेकुलर को अवसरवादी प्रस्ताव किया था और वह प्रस्ताव कर्नाटक के कल्याण के लिए नहीं बल्कि उनके निहित राजनीतिक लाभ के लिए था। यह बहुत शर्मनाक है।

Related Posts: