नयी दिल्ली,

अलग-अलग मुद्दों पर विभिन्न दलों के हँगामे के कारण आज लगातार 14वें दिन लोकसभा की कार्यवाही बाधित रही और प्रश्नकाल नहीं हो सका।

सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होते ही तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस), अन्नाद्रमुक और तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के सदस्य अध्यक्ष के आसन के समीप आकर नारेबाजी करने लगे। हाथों में पोस्टर लिये वे ‘हमें न्याय चाहिये’ के नारे लगा रहे थे। टीआरएस तेलंगाना में आरक्षण बढ़ाने की माँग कर रही है।अन्नाद्रमुक की माँग कावेरी प्रबंधन बोर्ड के जल्द गठन की है, जबकि सरकार से हाल ही में अलग हुई तेदेपा के सदस्य आँध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की माँग कर रहे हैं।

अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने हँगामे के बीच ही सदन की कार्यवाही चलाने की कोशिश की। उन्होंने प्रश्नकाल शुरू करते हुये पहला प्रश्न पूछने के लिए सुनील बलिराम गायकवाड़ का नाम पुकारा। लेकिन, हँगामे के बीच मंत्री जवाब नहीं दे सके। श्रीमती महाजन ने कहा “कोई सुनना नहीं चाह रहा है। कोई सदन को चलाना नहीं चाह रहा है।” इसके बाद उन्होंने सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

बजट सत्र के दूसरे चरण में पहले दिन से ही विभिन्न मुद्दों पर कई दलों के हँगामे के कारण यह लगातार 14वाँ दिन है जब सदन की कार्यवाही बाधित रही है।

Related Posts: