नई दिल्ली,

राजस्थान में लोकसभा की दो और विधानसभा की एक सीट पर भारी भरकम वोटों से कांग्रेस के हाथों मात खाने के बाद भले ही वसुंधरा राजे सिंधिया के खिलाफ बगावत के सुर उठे हों लेकिन फिलहाल बीजेपी उन्हें बदलने के मूड में नहीं है.

बीजेपी नेता इस हार से बेहद चिंतित हैं इसलिए अब राजस्थान में संगठन को मजबूत करने के लिए पार्टी आलाकमान नए सिरे से कवायद में जुट गया है. ऐसे में हो सकता है कि अगले कुछ दिनों में संगठन में बड़े बदलाव किए जाएं और राजस्थान को लेकर कुछ अहम फैसले भी लिए जाएं.

बीजेपी विधानसभा चुनाव से महज आठ महीने पहले फिलहाल मुख्यमंत्री बदलने के मूड में नजर नहीं आ रही. हालांकि पार्टी ने अभी भी सभी विकल्प खुले रखे हैं. पार्टी नेताओं का मानना है कि चुनाव से ऐन पहले इस तरह के बदलाव का चुनाव पर बुरा असर पड़ेगा.