कर्मचारी हड़ताल से प्रशासनिक कार्य ठप्प

भोपाल,

बरकतउल्ला विश्वविधालय में 18 दिन से कर्मचारियों का हड़ताल जारी है. ऐसे में विश्वविद्यालय के प्रशासनिक कार्य ठप्प पड़े हैं. वहीं विश्वविद्यालय में प्रथम ईयर की परीक्षा 31 मार्च से घोषित की गई है.

इस संबंध में कोई तैयारी नही की जा रही है, जिससे परीक्षा आयोजित करने संदेह जताया जा रहा है. जिससे बीयू में पढऩे वाले छात्रों की एक साल पीछे होने की संभावना जताई जा रही है. कुछ कॉलेजों के थर्ड सेमेस्टर का रिजल्ट अभी तक घोषित नहीं किया गया है, जिससे अगला सेमेस्टर भी लेट हो सकता है.

मप्र विश्वविद्यालयीन महासंघ की ओर से बीयू कर्मचारी प्रशासनिक भवन के मुख्य गेट पर धरना देकर बैठे रहे. आंदोलन स्थल पर कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कर्मचारी संघ के अध्यक्ष सुधीर ठाकरे ने कहा कि जब तक मांगों की पूर्ति नहीं होती है, तब तक आंदोलन जारी रहेगा. प्रांतीय महासचिव लखन सिंह परमार ने कहा कि अगर हड़ताल खत्म नहीं होता है तो किस तरह से परीक्षा आयोजित कराई जाएगी.

अभी तक परीक्षा की तैयारी नहीं की गई. इससे सभी विश्वविद्यालयों के 10 से 12 लाख छात्र-छात्राओं के भविष्य के प्रति शासन का कोई ध्यान नहीं जा रहा है. वहीं करीब 1 हजार विद्यार्थियों की डिग्री और माइग्रेशन के अभाव में नौकरी और विदेश में पढ़ाई करने जाने वाले विद्यार्थियों का भविष्य भी अधर में लटका है.

परीक्षा की आन्तारिक तैयारियां कर रहे है, और पूरा प्रयास यह रहेगा कि परीक्षा समय पर शुरू हो जाये. हां यह बात सही है कि हड़ताल से काम प्रभावित हो रहा है. पर अब मामला शासन के समक्ष है, और अब शासन के फैसले का इन्ताजार है.
प्रमोद वर्मा, कुलपति
बरकतउल्ला विश्वविधालय