श्रीनगर,

जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में आज घेराबंदी और तलाशी अभियान के दौरान आंतकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच शुरू हुई मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिद्दीन के शीर्ष कमांडर समेत सभी पांच आतंकवादी मारे गये। मुठभेड़ में सुरक्षा बल के दो जवान भी घायल हो गये। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी।

जम्मू कश्मीर पुलिस महानिदेशक एस पी वैद ने कहा है कि इलाके में छिपे सभी पांचों आतंकवादी मारे गये हैं। श्री वैद ने ट्वीट किया, “शोपियां के बड़िगांव में मुठभेड़ खत्म हो गया है। पांचों आतंकवादियों के शव बरामद कर लिए गये हैं। सेना, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानों को शाबाशी।”

सूत्रों के अनुसार आतंकवादी जिस घर में छिपे थे सुरक्षा बलों ने उस घर को विस्फोट से उड़ा दिया और मलवे के नीचे दबे आतंकवादियों के शवों को बरामद कर लिया गया है।

इससे पहले गांव की घेराबंदी को मजबूत करने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बल मौके पर भेजा गया था। मुठभेड़ शुरू होने पर आंतकवादियों की गोली से एक जवान ओर एक विशेष अभियान समूह (एसओजी) का जवान घायल हो गया था जिसे बाद में यहां के सैन्य अस्पताल भेजा दिया गया।

इलाके में घेराबंदी और तलाशी अभियान के दौरान सुरक्षा बलों के साथ प्रदर्शनकारियों की भी झड़पें हुई। प्रशासन ने एहतियातन इंटरनेट और रेल सेवाओं को बंद दिया है।

उन्होंने बताया कि शोपियां जिले के गांव बडिगाम इमाम साहिब में आतंकवादियों की छिपे होने की खुफिया सूचना के बाद सुबह सुरक्षा बलों द्वारा घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया था। गांव से बाहर जाने वाले सभी रास्तों को सील करके जब सुरक्षा कर्मी गांव में छिपे आंतकवादियों की ओर बढ़ रहे थे तभी आतंकवादियों ने स्वचालित हथियारों से उन पर गोलीबारी शुरू कर दी। सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई शुरू की और मुठभेड़ शुरू हो गयी।