• National Gramin Vikasचित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय के प्रबंध मंडल की बैठक में राज्यपाल
  • विश्वविद्यालय की स्थापना का लक्ष्य ग्रामीण विकास
  • शिक्षा का बेहतर निर्धारण करें
  • गाँवों का सम्पूर्ण विकास गाँधी जी का सपना

भोपाल, 5 जुलाई. राज्यपाल राम नरेश यादव ने आज यहाँ राजभवन में महात्मा गाँधी ग्रामोदय विश्वविद्यालय चित्रकूट, सतना के 45 वें प्रबंध मण्डल की पहली बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय की स्थापना का लक्ष्य ग्रामीण विकास है.

विश्वविद्यालय से जुड़े सभी लोग अपनी सम्पूर्ण रचनात्मक ऊर्जा का विनियोग इस महत्वपूर्ण लक्ष्य की प्राप्ति के लिए करें. विश्वविद्यालयों में सभी व्यवस्थाओं के केन्द्र में विद्यार्थियों का व्यक्तित्व निर्माण है. उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय इस बात को सर्वोच्च प्राथमिकता देकर पठन-पाठन और शैक्षणिक कार्यों का संचालन करे.

राज्यपाल यादव ने कहा कि राष्टï्र हो, राज्य हो या संस्थाएँ, सभी को वर्तमान की चुनौतियों से दो-चार होना पड़ता है. शिक्षा का बेहतर निर्धारण इस प्रकार करें कि छात्र समाज और राष्ट की धरोहर बनें न कि समस्या. राज्यपाल यादव ने कहा कि गाँवों का सम्पूर्ण विकास गाँधी जी का सपना था.

बापू के इस स्वप्न को साकार करने की दिशा में सर्व-सम्मति से निर्धारित रणनीति के तहत निरंतर प्रयास किये जाये. बैठक में विश्वविद्यालय के लिए कुलपति चयन की समिति में प्रबंध बोर्ड द्वारा निर्वाचित किये जाने वाले सदस्य का नाम तय करने का अधिकार सर्व-सम्मति से राज्यपाल यादव को दिया गया. बैठक में राज्यपाल के प्रमुख सचिव विनोद सेमवाल, विधि अधिकारी सी.सी. द्विवेदी, कुलपति प्रो. अरूण कुमार गुप्ता, प्रतिकुलपति प्रो. इन्द्र प्रसाद त्रिपाठी, प्रमुख सचिव कृषि बी.एस. धुर्वे, विख्यात वैज्ञानिक डा. एन.एन.पाठक, डा. बी.एस.बघेल,डा. एस.के. श्रीवास्तव सहित कई और चिकित्साविद डा. आर.एस. सहगौरा उपस्थित थे.

प्रगतिशील किसान हरीसिंह तोमर, दिलीप कुमार मिश्रा, प्रतिभाशाली महिला डा.(श्रीमती)जनक मगिलिगन, विख्यात इंजीनियर डा. प्रकाश वर्मा, विख्यात शिक्षाविद प्रो. आर.डी.मौर्य, आई.सी.ए.आर. प्रतिनिधि

Related Posts: