नयी दिल्ली,

सरकार ने सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म फेसबुक के मुखिया मार्क ज़ुकरबर्ग को अाज चेतावनी दी कि उसके प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करने वाले 20 करोड़ भारतीयों के डाटा की चेारी या दुरुपयोग के किसी भी प्रयास को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और ऐसा होने पर सरकार उन्हें भारत में तलब भी करेगी।

सूचना प्रौद्योगिकी और कानून विभागों के केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा, “श्री मार्क ज़ुकरबर्ग, आप अच्छी तरह से समझ लें, अगर फेसबुक के सिस्टम से कोई डाटा चोरी या डाटा के दुरुपयोग किया गया तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हमारे आईटी कानून के तहत कड़े अधिकार है जिनमें अापको भारत में सम्मन करने का अधिकार शामिल है।”

श्री प्रसाद ने कहा कि डाटा माइनिंग फर्म में कैम्ब्रिज एनालिटिका के संबंध में हाल ही में प्रकाश में आयीं घटनाओं से दुनिया भर में हड़कंप मच गया है क्योंकि यह मामला राष्ट्रीय सुरक्षा एवं चुनाव प्रणाली में निष्पक्षता का है।

उन्हाेंने कांग्र्रेस पार्टी और कैम्ब्रिज एनालिटिका के संबंधों को लेकर आयी रिपोर्टों को लेकर चिंता व्यक्त की और कहा कि कांग्रेस ने इस कंपनी की सेवाएं लीं हैं और मीडिया रिपोर्टों में 2019 के चुनावों में कांग्रेस इसी कंपनी की सेवाएं लेने वाली है।

श्री प्रसाद ने कहा कि देश के आईटी एवं कानून मंत्री होने के नाते वह स्पष्ट करना चाहते हैं कि सरकार प्रेस की स्वतंत्रता, अभिव्यक्ति की आज़ादी और सोशल मीडिया पर विचारों के मुक्त आदान प्रदान का पूरी तरह से समर्थन करती है। लेकिन प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से फेसबुक सहित सोशल मीडिया पर भारत की चुनावी प्रक्रिया को अवांछित तरीके से प्रभावित करने के किसी भी प्रयास को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Related Posts:

विराट व रोहित के तूफान में उड़ा विंडीज
रोजगार दिलाने वाली हो शिक्षा:गुप्ता
आदर्श ग्राम के लिए गांवों की आर्थिक मजबूती जरूरी: वीरेंद्र सिंह
नहीं रहे वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्रीनिवास तिवारी
आर्थिक मामलों में अनियमितताओं पर सरकार के कड़े कदम : नरेन्द्र मोदी
अमनमणि की जमानत निरस्त करने से सुप्रीम कोर्ट का इन्कार