johnअभिनेता जॉन अब्राहम का कहना है कि अवॉर्ड समारोह किसी सर्कस से कम नहीं होते और वह ऐसे कार्यक्रमों को गंभीरता से नहीं लेते.

अब्राहम ने कहा कि मैं अवॉर्ड समारोहों के लिए नहीं जाता. वे सर्कस के करतबों की तरह होते हैं और मैं सर्कस देखने नहीं जाता. इसलिए मैं अवॉर्ड कार्यक्रमों को गंभीरता से नहीं लेता.

हाल ही में परिणीति चोपड़ा के साथ एक अवॉर्ड कार्यक्रम की मेजबानी करते हुए रितेश देशमुख ने मजाकिया तौर पर कहा था कि ‘मद्रास कैफे’ के अभिनेता अब्राहम को 15 साल इस क्षेत्र में गुजारने के बाद भी अभिनय नहीं आया.

इस पर अब्राहम ने जवाब दिया, रितेश एक अच्छा दोस्त हैं और अवॉर्ड समारोहों में लोग एक-दूसरे का मजाक बनाते हैं. मैं इसे सहज तौर पर लेता हूं. रितेश एक अच्छा लड़का है और मैं चीजों को नकारात्मक रूप में नहीं लेता. देशमुख और अब्राहम ने 2012 में ‘हाउसफुल-2’ में साथ काम किया था.

Related Posts: