नयी दिल्ली,

राजधानी दिल्ली में चल रहे सीलिंग अभियान के मुद्दे पर आज यहां मुख्यमंत्री आवास पर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के साथ हुयी बैठक न सिर्फ बेनतीजा रही बल्कि भाजपा नेताओं ने बैठक में उनके साथ बदसलूकी किए जाने का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन भी किया।

सीलिंग मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज अपने आवास पर बैठक बुलायी थी। इस बैठक में अाप नेताआें के अलावा भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी के साथ कई भाजपा नेता भी मौजूद थे।

बैठक में सीलिंग को लेकर दोनों पक्षों के बीच इतनी तीखी तकरार हुयी कि भाजपा नेता बैठक छोड़कर बाहर निकल आए और मुख्यमंत्री आवास के बाहर धरने पर बैठ गए। खबर है कि श्री तिवारी ने कुछ आप नेताओं के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज करायी है।

भाजपा नेताओं का आरोप है कि श्री केजरीवाल ने बैठक में भारी भीड़ जुटा रखी थी। ये लोग इतना शोर शराबा कर रहे थे कि उन्हें अपनी बात कहने का मौका ही नहीं दिया। दूसरी और श्री केजरीवाल ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि उपराज्यपाल चाहें तो इस मुद्दे का हल एक दिन में निकल सकता है।

उनके पास इसे लेकर जो फाइलें मौजूद है वह उस पर हस्ताक्षर नहीं कर रहे हैं। यदि इस सप्ताह भी वह कुछ नहीं करते तो हम सीलिंग की कार्रवाई पर रोक के लिए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे।

उन्होंने आरोप लगाया कि सीलिंग में भी भेदभाव हो रहा है। करीब 351 सड़कों पर सीलिंग नहीं हो रही है, सर्वे की रिपोर्ट अभी तक दिल्ली नगर निगम ने राज्य सरकार को नहीं सौंपी है। रिपोर्ट मिलने पर वह इसे उच्चतम न्यायालय को सौपेंगे।

उन्होंने कन्वर्जन चार्ज पूरी तरह खत्म किए जाने की मांग करते हुए कहा कि दिल्ली में सीलिंग की वजह से छोटे व्यापारी बहुत परेशान है। पहले नोटबंदी, फिर जीएसटी और अब सीलिंग ने व्यापारियों को बदहाल कर दिया है।

Related Posts: