भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने

नवभारत न्यूज भोपाल,

सोमवार सुबह 74 बंगले स्थित मुख्यमंत्री निवास (एनेक्सी) व भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान के बंगले के बाहर पोस्टर चिपकाने की घटना के बाद हडक़ंप मच गया.

इतना ही नहीं बेहद सुरक्षित क्षेत्र माने जाने वाले 74 बंगले के आसपास मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लगे बैनरों पर कालिख भी पोत दी. मामला जैसे ही संज्ञान में आया तुरंत पुलिस अधिकारियों के अलावा मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों ने वहां का जायजा लिया और पोस्टरों को हटाया. बीजेपी इसे कांग्रेसियों की हरकत बता रही है, वहीं कांग्रेसियों का कहना है कि वे आखिर ऐसा क्यों करेंगे.

बताया जा रहा है कि हाल ही में यह सामने आया था कि मुख्यमंत्री ने अपनी सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मी कुलदीप गुर्जर को तथाकथित थप्पड़ मारा, जिसके बाद से गुर्जर समाज के लोगों में आक्रोश है और इसी के चलते यह कृत्य किया गया है. इसके साथ ही गुर्जर समाज के लोग कई जिलों में इस बात की मांग कर चुके हैं कि मुख्यमंत्री सुरक्षाकर्मी से सार्वजनिक रूप से माफी मांगे.

74 बंगले स्थित मुख्यमंत्री निवास के बाहर सोमवार सुबह पोस्टर चिपकाए जाने की घटना समने आई. इन पोस्टरों पर लिखा हुआ था कि शिवराज सिंह माफी मांगो, गुर्जर समाज का अपमान नहीं सहेगा हिंदुस्तान, गुर्जर एकता जिंदाबाद.

इसके साथ ही प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार सिंह चौहान के बंगले के बाहर भी पोस्टर चिपके हुए थे. वहां पर लगे मुख्यमंत्री के बैनरों पर भी कालिख पोत दी गई थी. जैसे ही यह मामला वरिष्ठ अधिकारियों के संज्ञान में आया वे तुरंत वहां पर पहुंचे और पोस्टरों को हटाने के साथ कालिख से पोते गए मुख्यमंत्री के बैनरों को भी हटाया गया.

पूर्व सीएम का भी बंगला है पास में

मुख्यमंत्री निवास 74 बंगले से सटा हुआ ही पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का बंगला है. इसके साथ ही पास में राज्यमंत्री सारंग के अलावा अन्य मंत्री भी रहते हैं, ऐसे में सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठते हैं कि अति सुरक्षित क्षेत्र माने जाने वाले 74 बंगले में अज्ञात लोग पोस्टर और बैनरों पर कालिख पोत गए और किसी को भनक नहीं लगी.

Related Posts: