नयी दिल्ली,  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छता के लिए वैचारिक बदलाव लाने और इस पर राजनीति नहीं करने का अाह्वान करते हुए आज कहा कि श्रेष्ठ और स्वच्छ भारत का सपना देश की सवा सौ करोड़ आबादी के सहयोग से ही पूरा किया जा सकता है।

श्री मोदी ने स्वच्छ भारत मिशन के तीन साल पूरा होने मौके पर यहां आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि स्वच्छ रहना हर देशवासी का स्वभाव है और इसको लेकर किसी तरह का मतभेद भी नहीं लेकिन बड़ा सवाल यही है कि इसकी पहल कौन करेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि तीन साल पहले उन्होंने जब यह कार्य हाथ में लिया था तो कई लोगों ने उनका मजाक उड़ाया था और आलोचना की थी लेकिन स्वच्छता की उन्होंने पहल की है और देश इस दिशा में आगे बढ रहा है।

Related Posts: