सरकार पर लगाया सौतेले बर्ताव का आरोप

नवभारत न्यूज भोपाल,

हज सब्सिडी समाप्त किये जाने के बाद जहां मुस्लिम इदारे खामोश हैं, वहीं कुछ संगठनों ने सियासत शुरू कर दी है. संयुक्त संघर्ष मोर्चा ने जहां पत्रकारों के बीच सरकार के निर्णय को गलत बताया वहीं सोशल डेमोक्रेटिव पार्टी ने कहा है कि सब्सिडी समाप्त करने से सरकार की नीयत पर सवाल उठ रहे हैं.

संयुक्त संघर्ष मोर्चा के शमसुल हसन व मुजाहिद मो. खान ने पत्रकारों से चर्चा करते हुये कहा कि देश आपातकाल की तरफ जा रहा है, जहां सरकार मनमानी फैसले कर रही है. उनका कहना है कि समाज विशेष को निशाना न बनाया जाये वर्ना उनका संगठन आंदोलन करेगा.

उधर सोशल डेमोक्रेटिव पार्टी ने विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि केन्द्र सरकार ने राजनैतिक ध्रुवीकरण के लिये यह कार्रवाई की है. पार्टी के इरफानुल हक का कहना है कि यदि हज सब्सिडी बंद करना है तो सभी तरह के धार्मिक आयोजनों व धार्मिक यात्राओं पर किया जाने वाला खर्च समाप्त किया जाये.

किया विरोध प्रदर्शन

संयुक्त मोर्चा की महिला ङ्क्षवग ने दोपहर में हज सब्सिडी बंद करने के विरोध में बुधवारा चौराहे पर प्रदर्शन भी किया. उनका कहना था कि यदि प्रधानमंत्री मुस्लिम महिलाओं का सशक्तिकरण चाहते हैं तो पहले गुजरात की दंगा पीडि़त महिलाओं को राहत प्रदान करें.