दो दिन में सैलरी देगा प्रबंधन

भोपाल, हड़ताल पर गये 108 एंबुलेंस के कर्मचारियों ने काम पर लौटने पर राजी हो गये है. सैलरी न मिलने से नाराज चल रहे ईएमटी व पायलट ने सोमवार को प्रबंधन से मिले आश्वासन के बाद 108 एंबुलेंस की हड़ताल समापत कर दी है. 108 प्रबंधन ने कर्मचारियों को आश्वासन दिया है कि रोका गया वेतन उन्हें अगले दो दिनों के अंदर दे जाएगा.

कर्मचारियों को इस बात का भी भरोसा दिलाया गया है कि हर महीने के 15 तारीख को उन्हें नियमित भुगतान किया जाएगा. बता दें कि राज्य में मरीजों को तुरंत उपचार उपलब्ध कराने के साथ नजदीकी अस्पताल तक पहुंचाने में 108 एम्बुलेंस सेवा की अहम भूमिका है.

इसके कर्मचारियों को बीते दो माह से वेतन का भुगतान ही नहीं किया गया था. 108 एंबुलेंस कर्मचारी संघ के प्रवक्ता के मुताबिक, राज्य में इस सेवा के संचालन का काम जिगित्सा हेल्थ केयर संस्था के जरिए होता है. सरकार से इस संस्था को रकम मिलती है, लेकिन कर्मचारियों को भुगतान समय पर नहीं किया जा रहा था. यह संस्था एक माह का वेतन पहले से ही रोककर चलती है.

किसी भी कर्मचारी को अक्टूबर माह का वेतन नहीं मिला था. इसके चलते कर्मचारियों के परिवारों के सामने कई तरह की समस्याएं बढ़ गई थी, जिससे परेशान होकर कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू कर दी थी.

राज्य में 108 एम्बुलेंस सेवा में 600 से अधिक एम्बुलेंस का संचालन होता है. इन एम्बुलेंस में तीन हजार से ज्यादा कर्मचारी कार्यरत है. इस सेवा का लाभ पाने के लिए भोपाल में एक नियंत्रण कक्ष है, जहां फोन करके किसी भी मरीज या हादसे के घायलों की सूचना देने के कुछ देर बाद ही यह वाहन पहुंच जाता है.

इस हड़ताल में नियंत्रण कक्ष के कर्मचारी भी शामिल थे. गौरतलब है कि इससे पहले अप्रैल माह में भी 108 एम्बुलेंस सेवाश् के कर्मचारी हड़ताल पर गए थे. तब भी स्वास्थ्य सेवाओं पर बुरा असर पड़ा था.

परेशान होते रहे मरीज

108 एम्बूलेंस कर्मचारियों की हड़ताल के दौरान मरीजों एवं उनके परिजनों को काफी परेशान होना पड़ा. मरीजों को निजी वाहनों और आटो द्वारा उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया गया. कंपनी द्वारा वेतन दिए जाने की घोषणा के बाद 108 एम्बूलेंस के कर्मचारियों ने हड़ताल समाप्त कर दी तथा काम पर पर वापस लौटे.

Related Posts: