बर्मिंघम,

भारतीय शटलर किदाम्बी श्रीकांत ने ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप में प्री क्वार्टरफाइनल मैच के दौरान अत्यधिक सर्विस फाल्ट दिये जाने को लेकर चेयर अंपायर की कड़ी आलोचना की है।

श्रीकांत पुरूष एकल के प्री क्वार्टरफाइनल मैच में चीन के हुआंग यूशियांग के खिलाफ कड़े संघर्ष के बाद 11-21 21-15 20-22 से मैच हार गये थे।विश्व में तीसरी रैंकिंग के भारतीय खिलाड़ी की गैर वरीय चीनी खिलाड़ी के हाथों 52 मिनट में यह हार काफी चौंकाने वाली थी।

भारतीय खिलाड़ी ने मैच के बाद कहा“ पहले ही गेम में कई सारे सर्विस फाल्ट दे दिये गये।मुझे इसकी बिल्कुल उम्मीद नहीं थी।एक दिन पहले हुये मैच में ऐसा नहीं था लेकिन अगले ही दिन चेयर अंपायर ने कई सारे फाल्ट निकाले।मुझे लगता है कि इसे लेकर सही नियम होने चाहिये।यह काफी हास्यास्पद है।”

अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) ने अब बैडमिंटन में शटल को कोर्ट की सतह से 1.15 मीटर ऊपर तक ही रखने का नया नियम बनाया है और ऑल इंग्लैंड इस नये नियम के साथ खेला जाने वाला पहला टूर्नामेंट है।

भारतीय शटलरों ने हालांकि टूर्नामेंट से पहले इसकी काफी तैयारी की थी लेकिन मैचों के दौरान वे इसे लेकर असहज दिखे।श्रीकांत के अलावा युगल जोड़ी सात्विकसेराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी भी अपने दूसरे दौर के मैच में कई सर्विस फाल्ट कर मैच हार बैठे।

भारतीय शटलर एन सिक्की रेड्डी ने ट्वीट कर इस नियम की आलोचना की।उन्होंने कहा“ बीडब्ल्यूएफ और सर्विस जज हमारे करियर के साथ खेल रहे हैं।लगता है कि उन्हें हमारी वर्षाें की मेहनत से कोई फर्क नहीं पड़ता है।” सिक्की और प्रणव जैरी चोपड़ा की मिश्रित युगल जोड़ी को भी मैच में सर्विस फाल्ट के कारण प्री क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर होना पड़ा है।

हालांकि भारतीयों के अलावा लिन डैन, ली चोंग वेई, विक्टर एक्सेलसन और भारतीय राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने भी नये सर्विस नियम की निंदा की है।

Related Posts:

अनुष्का के प्यार में गिरफ्तार हुए सुरेश रैना!
युवा पहलवानों को गाइड करेंगे सुशील कुमार-योगेश्वर दत्त
टीम इंडिया की लगातार छठी जीत, जिम्बाब्वे को ६ विकेट से हराया
मध्यप्रदेश से बैडमिंटन में अच्छी प्रतिभाएं निकलेंगी : सिंधू
पुरूष क्रिकेटरों से तुलना पर भड़कीं मिताली
विराट ने ठोका 20वां शतक, बनाया सबसे तेज़ 16000 का रिकार्ड