होशंगाबाद जिले के सोहागपुर में महा शिवरात्रि पर साबुदाने की खिचड़ी खाने से बीमार लोगों का इलाज किया गया.

  • कलेक्टर, एसपी और विधायक ने संभाला मोर्चा

नवभारत न्यूज सोहागपुर,

महाशिवरात्रि पर्व पर स्थानीय शिवालय में आयोजित होने वाले भंडारे की साबुदाना खिचड़ी खा कर नगर वा आसपास के ग्रामीण अंचलों के दो सौ पचास से अधिक लोग बीमार हो गए सभी बीमारों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया भर्ती मरीजों में महिला पुरुष एवं बच्चे भी शामिल हैं.

घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर कलेक्टर अविनाश लवानिया, एसपी अरविंद सक्सेना, विधायक विजय पाल सिंह भी पहुंच गए वहीं स्थानीय प्रशासन पहले से ही पूरा मोर्चा संभाले हुए था और अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों की सहायता में जुटे हुए थे.

अस्पताल सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार खिचड़ी खाने से उल्टी दस्त से परेशान लोग सुबह 8.00 बजे से ही अस्पताल में आने लगे थे और देखते ही देखते लोगों की संख्या 100 से ऊपर निकल गई.

मामले की भनक लगते ही पूरा प्रशासन मुस्तैद हो गया एसडीएम बृजेश सक्सेना, तहसीलदार भास्कर गाजले, एसडीओपी अर्जुनलाल उईके, टीआई टी सप्रे, बीएमओ रेखा सिंह गौर, डॉक्टर कमलेश विश्वास सहित नगर के अन्य प्राइवेट डॉक्टर भी मौके पर पहुंच गए और पूरी मानवीयता के साथ बीमारों की सेवा में जुट गए.

सीएमएचओ सुधीर डेहरिया ने बताया कि अस्पताल में जितने भी मरीज आ रहे हैं सभी को एक जैसी शिकायत है और मरीजों द्वारा भंडारे में बांटने वाली साबूदाने की खिचड़ी खाना बताया जा रहा हैं. मौके पर पहुंच एसपी अरविंद सक्सेना ने कहा कि प्रशासन की पहली प्राथमिकता बीमार लोगों को स्वास्थ्य करना है जिसके लिए जिले से डॉक्टरों की टीम बुलाई गई है जो कि मरीजों का उपचार कर रही हैं.

मंगल भवन बना अस्थाई अस्पताल अस्पताल में मरीजों की लगातार संख्या बढऩे से बिस्तर कम पडऩे लगे जिसके चलते मरीजों को खुले परिसर में ही लिटाया गया.

उसके बाद भी जगह नहीं मिलने पर नगर पालिका अध्यक्ष संतोष मालवीय ने अस्पताल पहुंच कर नगर पंचायत का मंगल भवन खोलने को कहा जिसके बाद अस्पताल आने वाले मरीजों को मंगल भवन की आस्था अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं.

घटना की जांच कराई जाएगी: कलेक्टर

बीमारों का हाल जानने पहुंचे कलेक्टर अविनाश लवानिया ने कहा कि मेडिकल स्टाफ की पर्याप्त व्यवस्था कर दी है. स्थिति नियंत्रण में है. कलेक्टर से यह पूछा जाने पर कि घटना के संबंध में क्या कार्यवाही की जा रहीं है तो कलेक्टर बोले पहली प्राथमिकता बीमारोंं को स्वस्थ करने की है। बाद में घटना के संबंध में सभी पहलुओं की जांच कराई जाएगी. प्रथम दृष्टया मामला फुड पाइजनिंग का है. यह भी कहा कि बाजार में बिकने वाले दूषित पदार्थो के लिए खाद्य विभाग की टीम शीघ्र ही जांच करेंगी. इस दौरान एसपी अरविंद सक्सेना ने अस्पताल परिसर में एकत्र भीड़ एवं मरीजों के परिजनों से सहयोग करने की अपील की.

Related Posts: