कोल इंडिया डीजल डम्‍परों को एलएनजी में बदलेगी, ईंधन पर 500 करोड़ रुपए बचाएगी

नयी दिल्ली, 02 नवंबर (वार्ता) कार्बन उत्सर्जन को और कम करने के लिए दुनिया की सबसे बड़ी कोयला उत्पादक कंपनी कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) ने कोयला ढ़ोने में लगे अपने बड़े ट्रकों (डंपरों) में तरलीकृत प्राकृतिक गैस (एलएनजी) किट लगाने का कार्यक्रम शुरू किया है।

कंपनी का अनुमान है कि इससे कार्बन उत्सर्जन का स्तर कम होने के साथ साथ उसके ईंधन खर्च में सालाना 500 करोड़ रुपये की बचत होगी।
एक बयान के मुताबिक कंपनी ने गेल (इंडिया) लिमिटेड और बीईएमएल लिमिटेड के सहयोग से गेल और बीईएमएल के साथ एक समझौता ज्ञापन के अपनी सहायक महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड (एमसीएल) में संचालित अपने 100 टन के दो डंपरों में एलएनजी किट को फिर से लगाने के लिए एक पायलट परियोजना शुरू की है।
इससे ये डंपर दोहरी ईंधन प्रणाली पर चलने लगें।एलएनजी के उपयोग के साथ उनका संचालन काफी सस्ता और स्वच्छ होगा।
सीआईएल के पास ओपनकास्ट कोयला खदानों में संचालित 2500 से अधिक डंपर हैं और बेड़े में सीआईएल द्वारा उपयोग किए जाने वाले कुल डीजल की लगभग 65 से 75 प्रतिशत खपत होती है।

कंपनी का अनुमान है कि डीजल की जगह 30 से 40 प्रतिशत तक एलएनजी के उपयोग से ईंधन की लागत में लगभग 15 प्रतिशत की कमी आएगी और उसके सभी भारी अर्थ मूविंग मशीनों में एलएनजी किट लगाने से सालाना 500 करोड़ रुपये की बचत हो सकती है।

नव भारत न्यूज

Next Post

अमरिंदर का कांग्रेस से इस्तीफा, ‘पंजाब लोक कांग्रेस“ का गठन

Tue Nov 2 , 2021
चंडीगढ़, दो नवम्बर(वार्ता) पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्याता ने इस्तीफा देने के साथ ही ‘पंजाब लोक कांग्रेस‘ नाम से नये राजनीतिक दल के गठन की आज घोषणा की। कैप्टन सिंह ने कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजे पत्र में उन्होंने कहा […]

You May Like