कफर्यू में भी टूटे आठ दुकानों के ताले, लाखों का माल गायब

रायसेन/बरेली. 10 मई नससे  किसान की मौत के बाद बरेली में लगे कफर्यू में जिला प्रशासन ने गुरूवार को 56 घंटों के बाद 12 घंटों की ढील दी. ढील के चलते मण्डी में किसानों को क्षेत्रीय विधायक द्वारा भोजन वितरण किया गया. जहां तौल कांटों पर विचौलियों द्वारा गुप-चुप तरीके से कराई जा रही गेहूं तुलाई की पोल खुल गई. विधायक ने स्थानीय कलेक्टर को मामले की शिकायत की. जिसके बाद खाद्य निरिक्षक एवं अनुविभागीय अधिकारी ने मौके पर पहुंच कर पंचनामा बनाकर लावारिश पड़े 877 क्विंटल गेहूं जप्त किया  है.

उल्लेखनीय है कि सरकारी गेहूं तौल कांटों पर अनिमित्ता को लेकर जिले में मचा बबाल जग जाहिर है. जहंा तक की जिले में उक्त समस्या को लेकर जिले में तीन किसानों की जान भी चली गई. परिणाम स्वरूप बरेली में 56 घंटों से कफर््य लगा हुआ है. लेकिन जिला प्रशासन के कृत्य जब उजागर हो गए तब बरेली में जिला प्रशासन द्वारा कफर््यू में गुरूवार को 12 घंटों की ढील दी गई. ढील के दौरान लोगों ने सामान्य महसूश किया. इस दौरान क्षेत्रीय विधायक भगवान सिंह ने मण्डी में लगे तौल कांटों पर डेरा डाले किसानों को भोजन वितरण करने गए. तब किसानों ने विधायक से तौल कांटों पर व्याप्त अनिमित्ताओं की शिकायत कि और बताया कि गेहूं खरीदी में भारी अनिमित्ता समिति प्रबंधकों की मिली भगत से हो रही है.

जिसके चलते विचौलियों एवं व्यापारियों द्वारा गए साल का पुराना गेहूं भी तुलाया जा रहा है. किसानों ने विधायक को तौल कांटों पर सरकारी वारदाने में रखे 877 क्ंिवटल पुराने गेहूं बताए. जिसके बाद विधायक ने कलेक्टर से शिकायत दर्ज कराई और जिला प्रशासन हरकत में आया. एसडीएम बरेली अनिल तिवारी, नायब तहसीलदार संजय नागवंशी फोर्स के साथ मंडी प्रांगण में आए और उन्होंने भी गेहूं के ढेर को देखा. खाद्य विभाग के सहायक खाद्य अधिकारी आरके श्रीवास्तव ने मौके पर पंचनामा बनाया एवं 877 क्विंटल गेहूं जिसमें 250 क्विंटल का ढेर एवं शेष शासकीय बारदानें में तुला एवं सिलाई किया हुआ जप्त किया.

टूटे आठ दुकानों के ताले

बरेली में सोमवार 4 बजे शाम से निरंतर कफ्र्यू जारी है. प्रतिदिन तीन चार घंटे की ढील दिन में दी जाती है.कफ्र्यू के दौरान पुलिस आईएएफ आदि के जवान लोगों पर लाठियां भांज देते है. रात में कफ्र्यू के दौरान तो परिंदा पर भी नही मार सकता ऐसे में आठ दुकानों में चोरी होना एवं चोरों द्वारा कफ्र्यू का उल्लंघन करना बेखौफ होकर फलों एवं पान की दुकानों के ताले तोड़कर फल एवं पान, सिगरेट, पान मसाला चुराना समझ से बाहर का विषय हो गया है. इन आठ दुकानों में से तो चार दुकानें उस घटना स्थल पर थी जहां पर पिछले दिनों किसान की मौत हुई थी। शेष चार दुकान नगर के व्यस्तम चौराहे पुराना बस स्टेण्ड पर है। चोरों ने अंगूर, आम, संतरा, मौसंबी, पपीला, सिगरेट, बीड़ी एवं पान मसाले को अपना निशाना बनाया है. लोगों द्वारा चर्चा की जा रही है कि संगीनों के साय में रहे बरेेली में आठ दुकानों के ताले टूटने का मतलब है कि सुरक्षा में लगे पुलिस कर्मियों द्वारा ही दुकानों में लूट को अंजाम दिया गया है.

Related Posts: