तेहरान, 14 मई. ईरान के खुफिया मामलों से सम्बंधित मंत्रालय ने कहा है कि खुफिया बलों एवं पुलिस ने 2007 में राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद की हत्या की साजिश को विफल कर दिया था. यह साजिश सुन्नी आतंकवादी संगठन जुनदुल्लाह द्वारा रची गई थी. तीन आत्मघाती हमलवारों ने 2007 में ईरान शहर की यात्रा के दौरान राष्ट्रपति की हत्या का प्रयास किया था.

आतंकवादियों की जनसभा के दौरान राष्ट्रपति के करीब जाकर बम विस्फोट करने की योजना थी. पुलिस ने इस षडयंत्र का खुलासा कर आतंकवादियों के मंसूबों को नाकाम कर दिया. पत्र के अनुसार आतंकरोधी अभियान के दौरान चार पुलिसकर्मी, एक जासूस और चार आतंकवादी मारे गए थे. जुनदुल्लाह को ईरान एवं पाकिस्तान द्वारा आतंकवादी संगठन घोषित किया गया है. सीबीआई की विशेष अदालत ने करोड़ों रुपये के एनआरएचएम घोटाला मामले में तीन आरोपियों की न्यायिक हिरासत सोमवार को 28 मई तक बढ़ा दी. दो दवा आपूर्तिकर्ताओं सौरभ जैन एवं उसके भाई विवेक के साथ ही पूर्व महानिदेशक [स्वास्थ] एसपी राम को विशेष सीबीआई न्यायाधीश एके सिंह के समक्ष पेश किया गया.

न्यायाधीश ने तीनों की न्यायिक हिरासत अवधि 14 दिन और बढ़ा दी. पूर्व में जमानत पा चुके अन्य आरोपी अभय वाजपेई स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए लगातार दूसरी बार अदालत में पेश नहीं हो पाए. सभी आरोपियों को मामले की अगली सुनवाई को अदालत में पेश होने के लिए कहा गया जो कि 20 मई को होगी.

Related Posts: