नई दिल्ली, 25 दिसंबर. देश के पांच राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनावों का असर बजट सत्र पर भी पड़ सकता है. ऐसी खबर है कि इन चुनावों की वजह से रेल और आम बजट स्थगित किए जा सकते हैं.

ये बजट मार्च के पहले हफ्ते में संसद में पेश किए जाने की संभावना है. माना जा रहा है कि क्योंकि चुनाव आदर्श संहिता 9 मार्च तक लागू है लिहाजा बजट 9 मार्चे के बाद ही पेश किया जाएगा. चुनाव आयोग ने शनिवार को उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, मणिपुर और गोवा में विधानसभा चुनावों की तारीख घोषित कर दी है. उत्तर प्रदेश में 4 से 28 फरवरी के बीच सात चरणों में चुनाव होंगे जबकि बाकी राज्यों में एक चरण में वोटिंग होगी. सभी राज्यों में चार मार्च को मतगणना होगी. इस ऐलान के साथ ही चुनाव आचार संहिता भी लागू हो गई है. सूत्रों का कहना है कि विधानसभा चुनावों के दौरान बजट सत्र पडऩे से आचार संहिता पर असर पड़ सकता है. इसे देखते हुए बजट पेश करने में देरी हो सकती है.

इस बीच वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी अगले वित्त वर्ष के लिए विभिन्न भागीदारों के साथ बजट प्रस्ताव तैयार करने के लिए 11 जनवरी से बैठकें शुरू करेंगे. पहली बैठक कृषि क्षेत्र के विशेषज्ञों के साथ होगी जिसके बाद विभिन्न क्षेत्र के विशेषज्ञों, प्रतिनिधियों, उद्योग जगत के लोगों व अर्थशास्त्रियों के साथ बैठक कर मुखर्जी अगले आम बजट के लिए उनके विचार लेंगे. वित्त मंत्री उद्योग जगत के नेताओं से 13 जनवरी को मिलेंगे जिसके बाद वह 16 जनवरी को ट्रेड यूनियन के नेताओं से मिलेंगे. मुखर्जी आर्थिक वृद्धि दर में नरमी रोकने और वैश्विक समस्याओं से निपटने के लिए विभिन्न हित समूहों से विचार लेंगे. चालू वित्त वर्ष देश की अर्थव्यवस्था के लिए कठिन रहा है जिसमें दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर घटकर 6.9 प्रतिशत पर आ गई.

Related Posts: