भोपाल, 2 दिसंबर. सेन्ट्रल बैंक आफ इंडिया द्वारा अपने शताब्दी वर्ष के उपलक्ष्य मेंआयोजित विभिन्न कार्यक्रमों की श्रृंखला में अरेरा हिल्स स्थित अधिकारी प्रशिक्षण महाविद्यालय में देश के विभिन्न कार्यालयों के राजभाषा अधिकारियों हेतु दो दिवसीय विशेष सेमीनार का शुभारंभ किया.

जिसकी अध्यक्षता बैंक के भोपाल अंचल के महाप्रबंधक बी.मंडल द्वार की गई. राजभाषा अधिकारियों को दिए गए अपने संबोधन में कहा राजभाषा अधिकारियों द्वारा सरकार की राजभाषा नीति एवं बैंकिंग सेवाओं में दिए जा रहे उनके योगदान की सराहना की और अपेक्षा की वे अपने क्षेत्र के अधीन कार्यरत सभी शाखाओं में ग्राहको की पास बुकों को हिन्दी में प्रिंट कराने की सुविधा शीघ्रति शीघ्र उपलब्ध कराने हेतु एवं कम्प्यूटरों पर अधिक से कार्य हिन्दी में कराने हेतु प्रयास करें. इस संबंध में उन्होंने आंचलिक कार्यालय स्तर से हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध कराने का आश्वसन दिया एवं अधिकारियों को सलाह दी किवे ग्राहक सेवा से संबंधित अधिक से अधिक कार्य की हिन्दी में कराने हेतु कार्य करें. इसके पूर्व इस सेमीनार हेतु बैंक के मुंबई स्थित केन्द्रीय कार्यालय से पधारी, बैंक के राजभाषा विभाग की प्रभारी, डा. उषा गुप्ता, सहायक महाप्रबंधक ने बैंक के आंचलिक कार्यालयों और क्षेत्रीय कार्यालयों में हो रहे राजभाषा कार्यान्वयन की समीक्षा की और भविष्य में सर्वोत्तम ढंग से सरकार की राजभाषा नीति के कार्यान्वयन हेतु राजभाषा अधिकारियों को प्रेरित किया. सेमीनार में वर्तमान तकनीकी परिप्रेक्ष्य में राजभाषा नीति के कार्यान्वयन विषय पर व्यक्तव्य देने हेतु भारत सरकार, राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय के कार्यालय भोपाल के उप निदेशक विनोद कुमार शर्मा को आमंत्रित किया गया. जिन्होंने यूनीकोड के अधिकाधिक प्रयोग एवं बैंकों की शाखाओं में राजभाषा हिन्दी के प्रयोग को बढ़ाने हेतु सुझाव दिया.

Related Posts: