नई दिल्ली, 17 फरवरी. आखिर बीसीसीआई और सहारा के बीच शुरू हुआ विवाद सुलझा लिया गया. दोनों पक्षों के बीच समझौता होने के बाद सहारा समूह ने आईपीएल 5 से बाहर निकलने का अपना फैसला वापस ले लिया है. टीम इंडिया की स्पॉन्सरशिप भी वह जारी रखेगा.

बीसीसीआई और सहारा समूह के बीच सुलह हो गई. बीसीसीआई ने सहारा की सभी प्रमुख मांगें मान लीं. दोनों के बीच जारी विवाद सुलझ गया है. सहारा ग्रुप ने साफ किया है कि वह आईपीएल 5 में पुणे टीम की फ्रैंचाइजी नहीं छोड़ेगा. सहारा की शिकायत थी कि 11 साल से भारतीय क्रिकेट के साथ जुड़े रहने और 1700 करोड़ रुपए की एक टीम का मालिक होने के बावजूद उसके हितों का ख्याल नहीं रखा जाता. सहारा ने युवराज सिंह को लेकर आईपीएल नियमों में ढील की मांग की थी.  लेकिन बीसीसीआई ने साफ कर दिया था कि वह किसी एक टीम के हित में नियमों में किसी प्रकार का बदलाव नहीं कर सकता. इसी के बाद सहारा ने चार फरवरी को भारतीय टीम के स्पॉन्सर और पुणे फ्रेंचाइजी से खुद को अलग करने का एलान कर दिया था. सहारा ने पांच फरवरी को आयोजित आईपीएल-5 की नीलामी में हिस्सा नहीं लिया था. मिली जानकारी के मुताबिक बीसीसीआई ने उसकी मांगें मान ली हैं. बीसीसीआई ने कहा है कि चूंकि दूसरी टीमों से बात हो चुकी है और उन्हें सहारा के इस आग्रह पर कोई एतराज नहीं है, इसलिए उसकी मांग स्वीकार की जा सकती

Related Posts: