नई दिल्ली, 16 अगस्त. राष्ट्रपति भवन में एट होम कार्यक्रम में उचित सम्मान न मिलने से भाजपा बेहद नाराज है. पार्टी नेताओं के साथ शिष्ट व्यवहार नहीं किए जाने के कारण कुछ नेता इसकी औपचारिक शिकायत करने की तैयारी में हैं.

दरअसल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री के भाषण के बाद राष्ट्रपति भवन में एट होम समारोह था, जिसमें प्रधानमंत्री , सोनिया गांधी, कैबिनेट मंत्री, भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज और अरूण जेटली सहित कई अतिथि शामिल हुए. भाजपा नेता इस बात से बेहद नाराज दिखे कि शामियाने में आडवाणी और अन्य भाजपा नेताओं को नहीं बिठाया गया.

तीनों नेताओं को डिप्लोमेट और अन्य सदस्यों के साथ खड़ा रहना पड़ा. वहीं राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के पास उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह बैठे हुए थे. हालांकि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भाजपा नेताओं को फोन कर आश्वस्त किया है कि सरकारी कार्यक्रमों में आगे से पार्टी नेताओं को कोई परेशानी नहीं होगी.

राष्ट्रपति ने आडवाणी को फोन किया

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रपति भवन में समारोह में बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के बैठने की व्यवस्था को लेकर कथित नाराजगी के मद्देनजर आडवाणी से फोन पर बात की और उन्हें भरोसा दिलाया कि भविष्य में ऐसी शिकायत का मौका नहीं आने दिया जाएगा. राष्ट्रपति भवन का कार्यालय यह सुनिश्चित करेगा कि भविष्य में इस तरह की असहज स्थिति पैदा नहीं हो.

उन्होंने भरोसा दिलाया कि भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति नहीं होने दी जाएगी और आगे होने वाले समारोहों के प्रबंध के बारे में वह विपक्ष के नेताओं के साथ विचार-विमर्श करेंगे. राष्ट्रपति भवन के मुगल गार्डन में गुरुवार को हुए समारोह में राष्ट्रपति के साथ प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी के बैठने के लिए कुर्सी लगी थी जबकि आडवाणी, स्वराज और जेटली को खड़े ही रहना पड़ा. पिछले हफ्ते डॉ. हामिद अंसारी के दूसरी बार उप राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के लिए राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में भी आडवाणी के बैठने का प्रबंध चौथी पंक्ति में था. जेडीयू के प्रवक्ता शिवानंद तिवारी द्वारा इस व्यवस्था पर आपत्ति किए जाने के बाद आडवाणी के अगली पंक्ति में बैठने का इंतजाम किया गया.

Related Posts: