जिला प्रशासन ने चलाया बुल्डोजर

झाबुआ 28 मई. आदिवासी बहुल अलीराजपुर जिला प्रशासन ने ग्राम भाबरा में स्थित शहीद चन्द्रशेखर आजाद की कुटिया को बुलडोजर से तुडवा दिया है. जिसका कांग्रेस ने कडा विरोध किया है.

शहिद चन्द्रेखर ने 23 जुलाई .909 को भाबरा में स्थित कुटिया में जन्म लिया था. इस कुटिया को पिछले दिनों जिला प्रशासन ने बुलडोजर से तुडवा दिया है. सौ वर्षो से अधिक पुरानी इस कुटिया का अब यहां अस्तीत्व नही बचा है.पिछले कई वर्षो से शहीद चन्द्रशेखर की इस कुटीया में पहुंचकर राजनेता और अन्य लोग श्रद्वासुमन अर्पित करते थे. राज्य सरकार इस कुटिया के स्थान पर करीब एक करोड रूपये की लागत से आजाद स्मृति मंदिर बना रही है.इस मंदिर निर्माण में शहीद चन्द्रशेखर की यह जीर्ण शिर्ण कुटिया बाधक बनने के कारण इसे तोड दिया गया है.

इस मामले में कलेक्टर राजेन्द्र सिंह ने यूनीवार्ता को बताया की यह कुटिया वर्ष .970 में बनाई गई थी और काफी टूट फूट गई थी इसलिये इसे तोडा गया है और यहां पर आजाद स्मृति मंदिर के साथ इस कुटिया को फिर से बनाया जायेगा. वही दूसरी तरफ शहीद चन्द्रेखर की कुटिया को तोडे जाने की जानकारी मिलने पर आज प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया भाबरा पहुंचे .उन्होंने इस कुटिया को तोडे जाने की कडी निंदा करते हुए कहा कि यह शहीदों के प्रति अपमान है. उन्होंने आरोप लगाया कि जब से प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी.भाजपा.की सरकार सत्ता में आई है तब से केवल दिखावा करने के लिये चन्द्रशेखर की शहादत को अपने राजनीतिक फायदे के लिए भुनाने के प्रयास में लगी हुई है.

Related Posts: