अशोकनगर। जिले में सरपंच पद पर हुये आरक्षण में बेरखेडी तूमैन का फर्जीवाडा कर सरपंच पद हथियाने का आरोप कलेक्टर कार्यालय में जनसुनवाई के दौरान सुर्खियों में आया । जिसमें ग्रामीणों ने अपनी शिकायत में बेरख्रेडी निवासी पिछडा वर्ग महिला पर शासन-प्रशासन के साथ धोखा-धडी कर अनूसूचित जनजाति महिला सरपंच पद पर चुनाव लडने की शिकायत दर्ज कराई है।

अशोकनगर जनपद पंचायत अंतर्गत बेरखेडी तूमैन पंचायत के लोगों ने जिलाधीश के समक्ष वर्तमान सरपंच गिंदाबाई पत्नि बाबूलाल ढीमर को पद से हटाने की मांग के साथ धोखा-धडी की कार्यवाही चाही है। सूत्रों के अनुसार पंचायत चुनाव वर्ष 2009-10 में जिला पंचायत निर्वाचन सरपंच पद हेतु आरक्षण व्यवस्था में पंचायत बेरखेडी तूमैन को अनूसूचित जनजाति महिला हेतु आरक्षित किया गया था। उक्त समय ग्राम बेरखेडी निवासी पिछडा वर्ग महिला  गिंदाबाई पत्नि बाबूलाल जाति ढीमर ने सरपंच पद हेतु नाम निर्देशन फार्म में स्वंय को अनूसूचित जनजाति वर्ग का होना बताया था। जबकि उक्त चुनाव में प्रतिद्वंद्वी प्रत्याशियों द्वारा भी उक्त आशय की शिकायतें की थी।

वर्तमान सरपंच पर आरोप लगाते हुये गांव के लोगों ने इस संवाददाता को बताया कि तथा गिंदाबाई पत्नि बाबूलाल से संबंधित पिछडा वर्ग प्रमाणित करने वाले दस्तावेजों की छाया प्रति भी सौपते हुये कहा है कि उक्त महिला ने जहां आरक्षण पर अतिक्रमण किया है ,तो वही अनूसूचित जनजाति महिला के  हक को छीन कर अपनी जाति छिपाकर शासन-प्रशासन को भी धोखा दिया है। जिसे तुरंत हटाने और आपराधिक  मामला दर्ज करने की फरियाद जनसुनवाई के दौरान जिला पुलिस अधीक्षक एवं कलेक्ट्रेड कार्यालय में की है। पद का प्रलोभन व्यक्ति को किस कदर जकड लेता है कि वह अपराध करने से भी परहेज नही करता यह बात चुनावी माहौल में तो सामने आती ही है । साथ ही जब कोई प्रत्याशी चुनाव जीतकर पद पर बैठ जाता है। तो यह बात भी सही है कि कुछ लोग उसकी वैद्यता और अवैद्यता पर अगुंली उठाने लगते है। यदि हम जनपद क्षेत्र अशोकनगर की ही पंचायती चुनाव पर नजर दौडाये तो लगभग दर्जनभर पंचायते ऐसे ही आरोप प्रत्यारोप के दौर से गुजर रही है। जहां तक बेरखेडी तूमैन पंचायत का सवाल है तो यहां की परिस्थितियां पहली नजर दस्तावेजों के अवलोकन से सरपंच के उक्त चुनाव पर निर्वाचित महिला ङ्क्षंगदाबाई के जातिवर्ग बदलने संबंधी आरोप बेबुनियाद नही ठहराये जाने की ओर संकेत करते है।

इन्होने कहा:- मैंने अभी पिछले महीने ही चार्ज लिया है । यदि उक्त प्रकार क ी शिकायत की गई है तो इसकी विधिवत अपील माननीय एसडीएम कोर्ट में की जाती है। जहां मामला प्रमाणित होने के बाद कार्यवाही के पटल पर आता  है।
श्रीराम सोनी ,पंचायत निरीक्षक जनपद अशोकनगर

पंचायत पर किये आरक्षण के विरूद्ध यदि किसी ने सरपंच पद चुनाव लडकर पाया है तो यह मामला प्रमाणित होने पर पंचायती राज्य अधिनियम की धारा 40 के तहत संबंधित को पद से प्रथक किया जायेगा।
आरसी मिश्रा ,एसडीएम अशोकनगर

Related Posts: