कौडिय़ों के दाम आवंटित की जमीन, उद्योग की जमीन पर उद्योगपतियों ने बनाए मकान

भोपाल, 30 नवंबर, नभासं. विधानसभा में बुधवार को कांग्रेस सदस्य राज्यवर्धन सिंह ने अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करते हुये कहा कि नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने मुख्यमंत्री और उनके परिवारजनों पर आरोप पूरे तथ्यों सहित लगाये हैं.

उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की छबि पर प्रकाश डालते हुये कहा कि जैसा उनका जीवन है, वैसे ही उनके कर्म हैं. वहीं दूसरी तरफ लोकायुक्त के दायरे में दागी मंत्रियों को नहीं हटा रही है. उन्होंने कहा जो मंत्री दोष मुक्त हो गये हैं उन्हें वापस मंत्रिमंडल में शामिल करें जैसे अनूप मिश्रा, कमल पटेल. इस टिप्पणी पर सदस्य अनूप मिश्रा ने जवाब दिया कि मुझे आपकी सिफारिश की जरूरत नहीं है. उन्होंने जमीन आवंटन के घोटाले को उजागर करते हुये कहा कि मुख्यमंत्री भाजपा, संघ सहित अन्य संस्थाओं को आवंटित जमीन का मूल्यांकन कराकर आम जनता को बतायें कि कितने करोड़ का घोटाला हुआ है. यह अपने आपमें एक बड़ा घोटाला है.उन्होंने मंत्री जयंत मलैया पर आरोप लगाते हुये कहा कि ट्रस्ट की जमीन को अब गिरवी रखकर लोन लेने की तैयारी की जा रही है. जबकि उक्त जमीन एक आचार्य को दी जाना थी किन्तु अनियमितताओं की बातें सामने आने पर आचार्य को दूर होना पड़ा. सरकार ने उक्त ट्रस्ट को 8 करोड़ की जमीन 25 लाख में दे दी. उद्योग की जमीन पर उद्योगपतियों द्वारा मकान बना लिये गये हैं जिनकी जांच करा लें. सिंह ने विशेष रूप से नर्मदा पानी में उद्योगों के दूषित पानी से नर्मदा जल प्रदूषित होने की बात भी उजागर की.

राज्य सरकार हर स्तर पर रही विफल

आईना दिखाने लाएं अविश्वास प्रस्ताव
विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करते हुये सदन में कांग्रेस सदस्य सुनील जायसवाल ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि घोषणा पत्र के वादों सहित स्वास्थ्य, दवा, सड़कों, कानून-व्यवस्था और बिजली, पानी का अभाव, किसानों की आत्महत्या करने तथा पर्याप्त भ्रष्टïचार फैलने का हवाला देते हुये कहा कि सरकार हर स्तर पर विफल रही है. इसलिये नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह मुख्यमंत्री को वास्तविक आईना दिखाने के लिये अविश्वास प्रस्ताव लेकर आये हैं.

विधायक सुनील ने कहा कि प्रदेश के अधिकांश गांव में बिजली के खंबे हैं किन्तु बिजली नहीं है. इसी तरह नहर है किन्तु पानी नहीं है. प्रदेश में कानून-व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गई है. सड़कों की दुर्दशा ऐसी हो गई है कि गद्दों में सड़कें नजर आ रही हैं. इसके अलावा परिवहन व्यवस्था पर अंकुश नहीं है. यहां ट्रक में उसकी क्षमता से कहीं अधिक माल लादकर परिवहन धड़ल्ले से हो रहा है. ओव्हर लोङ्क्षडग के चलते एक ट्रक पलटा जिससे 2 लोगों की मौत हो गई. इसके अलावा ट्रक गुजरने से पुलिया टूट कर बिखर गई. सदस्य सुनील जायसवाल ने मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित कराते हुये कहा कि आप अच्छे इंसान हैं और मैं भी मानता हूं. लेकिन आपके आभा मंडल के आसपास के लोगों का घेरा आपको भ्रमित कर रहा है. इसके अलावा परिवहन विभाग पर आरोप लगाते हुये बताया कि मुंबई की कंपनी के शाह बंधुओं को 7 अक्टूबर का टेंडर जारी कर दिया है जबकि यह कंपनी के कर्ताधर्ता ब्लैक लिस्टेड हैं. उन्होंने उक्त विभाग द्वारा राजस्व वसूली में 25 करोड़ रु. के घोटाले को उजागर किया.

Related Posts: