मुख्यमंत्री चौहान सिन्धु प्रवाह मेले में शामिल हुए

भोपाल, 7 मई. मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि चैतीचांद का उत्सव मुख्यमंत्री निवास पर भी मनाया जायेगा. चौहान ने यह घोषणा सिन्धु प्रवाह नामक पारिवारिक मेले में की. मेले का आयोजन सुन्दरवन नर्सरी प्रांगण में किया गया.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सिन्धु दर्शन यात्रा के लिये स्वास्थ्य परीक्षण अनिवार्य होता है. इस तथ्य के परिप्रेक्ष्य में प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही वृद्धजन तीर्थयात्रा योजना के तीर्थों की सूची में सिन्धु दर्शन को शामिल किये जाने के संबंध में विचार किया जायेगा. मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सिंधी भारत के माथे की बिंदी है. दुनिया की सबसे प्राचीन संस्कृति और सभ्यता का विकास सिन्धु के तट पर ही हुआ है. दुनिया को सिंधी-हिन्दी ने संस्कृति का पाठ पढ़ाया है. वेदों की रचना भी यही पर हुई है. उन्होंने कहा कि सिन्धु समाज प्रगति और विकास में योगदान देने वाला समाज है. वे जहां भी रह रहे है उस क्षेत्र के विकास और प्रगति में सहयोग कर रहे हैं. हमें इस समाज पर गर्व है. उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की सरकार और मुख्यमंत्री सदैव उनके साथ हैं. उन्होंने मेले के आयोजनों से वर्तमान आधुनिक जिन्दगी के तनाव से राहत मिलती है. नई पीढ़ी समाज के सांस्कृतिक मूल्यों से परिचित होती है. स्वागत उद्बोधन भगवान दास सबनानी ने दिया.

कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्यमंत्री चौहान ने मेले में प्रदर्शित सिंधू दर्शन झांकी, चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन किया. उन्होंने कार्यक्रम में उत्कृष्ट समाजसेवी पुरस्कार से गिरधारीलाल, तुलसी नैनवली और मोहन लालवानी को, दादा उत्तमचंद इसरानी पुरस्कार से लक्ष्मणदास मूलचंदानी को, ओल्ड इज गोल्ड पुरस्कार से भगवानदास सचदेव को, श्रेष्ठ पंचायत पुरस्कार से पूज्य सिंधी पंचायत एयरपोर्ट रोड को, समाज के मेधावी छात्र, उत्कृष्ट प्रतिभाओं और चैतीचांद के अवसर पर निकाली गई झांकी के विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किये.

कार्यक्रम में सिन्धु मेला समिति द्वारा मेले आयोजन के 15वें वर्ष में प्रकाशित पत्रिका सिंधू प्रवाह-2012 का विमोचन भी हुआ. इस अवसर पर म.प्र. आवास संघ के अध्यक्ष सुशील वासवानी, सुश्री ईश्वरी नाथानी, सिंधी सेन्ट्रल पंचायत के अध्यक्ष बंशीलाल इसरानी, प्रदर्शनी संयोजक जगदीश झावनी, स्मारिका के संपादक  अशोक मनवानी, भगवान दास कुकरेजा, डा. धर्मेन्द्र बुलचंदानी, सिने अभिनेता अरमान ताहिल, सिंधी गायिका मंजूश्री आसुदानी, भगवानदेव इसरानी, के.एल. दलवानी एवं बड़ी संख्या में सिंधी समाज के सदस्य उपस्थित थे.

Related Posts: