दूसरा टेस्ट आज से, मैच सुबह 9.30 बजे से

बेंगलूर, 30 अगस्त. हैदराबाद में पारी और 115 रन की शानदार जीत के रथ पर सवार टीम इंडिया अपने स्पिन गेंदबाजों के दम पर यहां एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में शुक्रवार से शुरू होने वाले दूसरे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट में न्यूजीलैंड को रौंदकर ‘क्लीन स्वीप’ करने के इरादे से उतरेगी.

भारतीय टीम इस समय जबर्दस्त फार्म में है लेकिन उसकी क्लीन स्वीप की उम्मीदों पर शहर में चल रही वर्षा से पानी फिर सकता है. बेंगलूर पिछले एक सप्ताह में भारी वर्षा से सराबोर रहा है और मौसम अनुमान के मुताबिक वर्षा का यह दौर अगले सप्ताह तक चल सकता है. वैसे भी सितंबर के महीने के शुरू में यहां आमतौर पर वर्षा होती रहती है. वर्षा से दूर यदि प्रदर्शन पर नजर डाली जाए तो कीवियों के सामने एक बार फिर आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और लेफ्ट आर्म स्पिनर प्रज्ञान ओझा की कड़ी चुनौती रहेगी जिन्होंने हैदराबाद में 20 में से 18 विकेट झटक लिए थे. यदि कीवी बल्लेबाज इन दो स्पिनरों का कोई तोड नहीं ढूंढ़ पाते हैं तो उनके लिए मुसीबतें खड़ी हो जाएंगी.

हालांकि चिन्नास्वामी स्टेडियम के क्यूरेटर नारायण राजू का दावा है कि यह एक स्पोर्टिंग विकेट है और इसमें बल्लेबाजों और गेंदबाजों के पास बराबर का मौका रहेगा. राजू ने कहा कि हमने एक सामान्य टेस्ट विकेट तैयार की है जो बल्लेबाजों और गेंदबाजों को समान रूप से मदद करेगी. हालांकि पिछले कुछ दिनों से हो रही भारी बारिश के कारण आउटफील्ड तैयार करने में हमें कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ा था लेकिन पिछले दो दिनों से धूप खिलने से मैदान काफी हद तक सूख गया है.

हालांकि न्यूजीलैंड उम्मीद कर रहा है कि आसमान पर बादल छाए रहें और मौसम भारी रहे जिससे उसके तेज गेंदबाजों को मदद मिल सके. न्यूजीलैंड के आलराउंडर डग ब्रेसवैल ने कहा हमें यह देखना होगा कि इस पिच से हमारे तेज गेंदबाजों को कितनी मदद मिलती है. यदि आसमान पर बादल छाए रहते हैं तो पिच से घास हटाए जाने के बावजूद हमें मदद मिल सकती है. कीवी टीम के लिए बेंगलूर टेस्ट से पहले एक खुशखबरी है कि उसके पूर्व कप्तान और दिग्गज स्पिनर डेनियल वेट्टोरी टेस्ट टीम के साथ जुड़ गए हैं. हालांकि वह टेस्ट टीम का हिस्सा नहीं होंगे लेकिन उनकी मौजूदगी और मार्गदर्शन से कीवी बल्लेबाजों को भारतीय स्पिनरों से निपटने में मदद मिल सकती है. ब्रेसवैल ने कहा वेट्टोरी बेंगलूर की परिस्थितियों से अच्छी तरह वाकिफ हैं और हमने इस संबंध में उनसे बात की है. उन्होंने हमें कुछ टिप्स दिए हैं जो हमारे लिए मददगार साबित हो सकते हैं. हम उनकी वापसी से खुश हैं.

हैदराबाद टेस्ट वहां के घरेलू बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण के संन्यास की छाया में खेला गया था जबकि बेंगलूर टेस्ट पर यहां के दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ का प्रभाव छाया रहेगा जो खुद इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं. भारत उम्मीद करेगा कि वीरेन्द्र सहवाग और गौतम गंभीर की ओपनिंग जोड़ी टीम को शानदार शुरूआत दे.

Related Posts: