कांग्रेस ने जताया रोष, कहा पद से हटाया जाये, सिख समाज ने भी की कड़ी निन्दा

भोपाल, 8 नवंबर, नभासं. मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं स्थानीय शासन मंत्री बाबूलाल गौर द्वारा सिख समुदाय के संबंध में की गई कथित टिप्पणी पर कड़ी प्रतिक्रिया हुई है.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया सहित पार्टी के अन्य नेताओं ने भी कड़ी निन्दा करते हुये कहा कि गौर ने प्रतिष्ठिïत सिख समुदाय का मजाक उड़ाया है जबकि देश के लिये इस समाज ने कुर्बानी दी है, जिसे भुलाया नहीं जा सकता. कांग्रेस ने गौर द्वारा सफाई कामगारों पर की गई टिप्पणी का भी विरोध किया है. भूरिया ने कहा कि गौर का यह बयान निन्दनीय है और आपराधिक कृत्य है. कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा सरकार के मंत्री सत्ता के मद में बहकने लगे हैं और वे मंत्री पद की गरिमा तथा अपने संवैधानिक दायित्वों को भूलते जा रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि गौर को कोई अधिकार नहीं की वे अपने जाति की तुलना दूसरे जातियों से करें. इससे पहले सहकारिता मंत्री गौरी शंकर बिसेन ने भी एक वर्ग विशेष से अभद्र व्यवहार कर चुके हैं.

भूरिया ने कहा कि अफसोस की बात है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस मामले में उसी तरह चुप्पी साधे बैठे हैं जैसी चुप्पी उन्होंने बिसेन की टिप्पणी पर साधी थी. भूरिया ने कहा कि अखिल यादव महासभा की सिंह कार्यकारिणी की बैठक में सोमवार को बाबूलाल गौर ने देश की सुरक्षा और प्रगति में सिख समुदाय के योगदान को नकारते हुये प्रधानमंत्री को निशना बनाया. इससे लगता है अब गौर अपना मानसिक संतुलन खो बैठे हैं. प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के अध्यक्ष मानक अग्रवाल ने बाबूलाल गौर को तत्काल मंत्री पद से हटाने की मांग की है. अग्रवाल ने कहा कि वरिष्ठ मंत्री बाबूलाल गौर ने रवींद्र भवन में आयोजित कार्यक्रम में कहा था कि एक प्रतिशत आबादी सिक्खों की है और उसका प्रधानमंत्री बन गया है जबकि सिक्ख समाज का कोई गौरवशाली इतिहास नहीं रहा, यह अति निन्दनीय है. अग्रवाल ने कहा कि इसी तरह गौर ने एक अन्य कार्यक्रम में दलित समाज के प्रति भी अभद्र शब्दों का प्रयोग किया है. इन घटनाओं से सिक्ख और दलित समाज आहत है.

अग्रवाल ने इन दोनों घटनाओं के संबंध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ शिकायत दर्ज कराने टी.टी. नगर थाने गये थे. इस पर थाना प्रभारी एस.के.एस. तोमर ने कहा कि पहला मामला श्यामला हिल्स थाना क्षेत्र में आता है जबकि दूसरा प्रकरण एमपी नगर थाने का है. आप शिकायत आवेदन देना चाहते हैं तो दे दें, जांच करा ली जायेगी. इसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने थाने के बाहर नारेबाजी की. मानक अग्रवाल ने बताया कि शिकायती आवेदन टी.टी. नगर थाने में दिया है. अब यह उन्हें तय करना है कि इसकी जांच कैसे करेंगे. मुझे रिपोर्ट की कॉपी नहीं दी गई.

गौर सार्वजनिक रूप से माफी मांगें : सिख समाज

मंगलवार को दैनिक समाचार पत्रों में प्रकाशित खबर में पूर्व मुख्यमंत्री व स्थानीय शासन मंत्री बाबूलाल गौर द्वारा सिक्ख समाज पर की गई अशोभनीय टिप्पणी की सिक्ख समाज ने कड़ी निन्दा की है. सर्व गुरुद्वारा कमेटियां भोपाल के संयोजक सरदार जोगिंदर सिंह धीर ने आज यहां जारी बयान में कहा कि देश एवं धर्म की रक्षा करने के लिये कम प्रतिशत होने के बावजूद भी सिक्ख साज की कुर्बानियां 90 प्रतिशत रही हैं. सिक्खों ने हर मोर्चे पर शहीदियां देकर देश को गुलामी की जंजीरों से मुक्त कराकर आजादी दिलवाई जो कि गौैर भूल गये थे, ऐसी सूरवीर व योद्धा कौम के लिये कही गई गैर जिम्मेदाराना टिप्पणी का विरोध सिक्ख समाज करता है. अत: सिक्ख समाज से बबूलाल गौर सार्वजनिक रूप से माफी मांगे, नहीं तो सिक्ख समाज द्वारा उठाये गये कदम की जवाबदारी गौर साहब की रहेगी. सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष प्रभात झा से सिक्ख समाज का अनुरोध है कि ऐसी टिप्पणी पर अनुशासनात्मक कार्यवाही करें.

Related Posts: