ग्राम गोलाखेड़ा के अभिभावक हो रहे परेशान

राजगढ़ 19 दिसम्बर, नससे. प्रदेश शासन की प्रत्येक बच्चों को गणवेश नि:शुल्क उपलब्ध कराने की महती योजना को लापरवाह प्रबंधन के चलते पलिता लग रहा है. ग्राम गोलाखेड़ा के प्राथमिक विद्यालय से बच्चो के पालकों के नाम से जारी हुए दर्जनों चैक संबंधित खाते में राशि न होने की वजह से बाउंस हो गए है. ग्रामीण अब इन चैकों को लेकर परेशान हो रहे है.

जानकारी के अनुसार प्राथमिक विद्यालय गोलाखेड़ा के प्रभारी द्वारा गत नवंबर माह में स्कूल में पढऩे वाले छात्र-छात्राओं के पालकों के नाम से गणवेश के लिए 400 रूपये राशि के चैक जारी किये गए थे. जिसके बाद संबंधित पालकों ने राशि के आहरण के लिए चैकों को पोस्टमैन के माध्यम से पोस्ट आफिस के खाते में जमा किये. लेकिन संबंधित खाते में पर्याप्त राशि न होने की वजह से बैंक ने चैकों को लौटा दिया और पोस्टमैन ने इन चैकों को प्रा.वि.प्रभारी को दे दिया. अब सारे चैक शाला के प्रभारी के पास है, वंहीं ग्रामीण अपनी राशि के लिए कभी पोस्टमैन के पास, तो कभी संबंधित बैंक और शाला प्रभारी के पास चक्कर लगा रहे है. लेकिन उनके द्वारा जमा किये गए चैकों की जानकारी उन्हें नहीं मिल पा रही है, जो जॉच का विषय है. शैलेन्द्र कानुड़े, जिला समन्वयक, सर्व शिक्षा अभियान ने कहा कि बीआरसी के माध्यम से ग्राम गोलाखेड़ा में जारी हुए चैकों की जानकारी निकाली जाएगी. 3 दिन पूर्व गणवेश के लिए करीब 57 लाख रूपये की राशि जारी की गई, जिससे जिले के अधिकांश बच्चों को गणवेश मिल सकेगी.

गणवेश बंटने में पूरा जिला फिसड्डी

गौरतलब है कि प्रदेश के मुखियॉ शिवराज सिंह चौहान ने 15 अगस्त के पूर्व सभी जिलों में शासकीय स्कूल के बच्चों को गणवेश बाटने के निर्देश जारी किए थे. वहीं कलेक्टर ने भी इस आदेश का प्रभावि रूप से पालन करने के निर्देश दिये थे. लेकिन पूरा सत्र निकलने की कगार पर है, उसके बाद भी जिले अंतर्गत अधिकांश ऐसे स्कूल है, जिनमें बच्चों को गणवेश की राशि नहीं मिल सकी है. उसके बाद भी शिक्षा विभाग के आलाधिकारी बच्चों को नि:शुल्क गणवेश देने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठा रहे है.

Related Posts: