हैदराबाद, 9 मई, ए. लगातार चार जीतों के बाद अपने घरेलू मैदान पर कोलकाता नाइटराइडर्स के हाथों मैच और अंकतालिका का शीर्ष स्थान गंवा चुकी दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम एक बार फिर टॉप स्पॉट हासिल करने के लिए यहां आज मेजबान डेक्कन चार्जर्स हैदराबाद पर हल्ला बोलेगी.

दिल्ली के फिलहाल 11 मैचों से 16 अंक हैं और इस मैच में जीत के बाद उसके 12 मैचों से 18 अंक हो जाएंगे तथा फिर से वह शीर्ष स्थान हासिल कर लेगी. वहीं दूसरी तरफ केवल पांच अंकों के साथ तालिका में आखिरी पायदान पर खड़े चार्जर्स के लिए तो अब केवल सम्मान बचाने का प्रश्न है. दिल्ली के खिलाडिय़ों के हाल के प्रदर्शन और चार्जर्स की दुर्गति को देखते हुए कहा जा सकता है कि दिल्ली की राह ज्यादा मुश्किल नहीं है. दिल्ली इस सत्र में बड़ी टीमों को हरा भी चुकी है. हां, इतना जरूर है कि पिछले मैच की नाकामी के कारण दिल्ली के खिलाडिय़ों के मनोबल में कुछ कमी आई होगी लेकिन डेक्कन जैसे डिस्चार्ज प्रतिद्वंद्वी को देखकर ही दिल्ली को रिचार्ज हो जाना चाहिए.

मैच भले ही हैदराबाद में हो रहा हो लेकिन इतना तो पक्का है कि इसमें सबकी नजर दोनों टीमों के दिल्ली के ही सितारों पर रहेगी. दिल्ली की ओर से जहां कप्तान तथा विस्फोटक ओपनर वीरेन्द्र सहवाग से आतिशी बल्लेबाजी की उम्मीद रहेगी वहीं डेक्कन की बल्लेबाजी का दारोमदार इस सत्र में दिल्ली के लाडले शिखर धवन पर ही पूरी तरह टिका रहा है. इतना ही नहीं डेक्कन की गेंदबाजी आक्रमण की जिम्मेदारी भी दिल्ली के ही अमित मिश्रा के कंधों पर रहेगी. दिल्ली के प्रदर्शन का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि औरेंज कैप और पर्पल कैप दोनों की होड में उसके खिलाड़ी प्रबल दावेदार बने हुए हैं. टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने के लिए मिलने वाला औरेंज कैप उसके कप्तान सहवाग ने दिल्ली में अपने नाम किया था जबकि उसके तेज गेंदबाज मोर्न मोर्कल सर्वाधिक विकेट के लिए मिलने वाले पर्पल कैप पर लंबे समय तक कब्जा रखने के बाद मामूली अंतर से इस होड में पिछड़ गए हैं. इस मैच में मोर्कल के पास पर्पल कैप वापस पाने का मौका रहेगा.

वीरू के अलावा दिल्ली के शेष बल्लेबाज कुछ खास असर नहीं छोड़ पाए हैं. इंग्लिश ओपनर केविन पीटरसन वापस स्वदेश जा चुके हैं जबकि विस्फोटक ऑस्ट्रेलियाई ओपनर डेविड वॉर्नर अभी एक ही मैच खेल पाए हैं और उसमें उन्हें लय पाने के लिए संघर्ष करना पड़ा. वीरू को उम्मीद रहेगी वॉर्नर आज से अपने स्वाभाविक अंदाज में वापसी कर लें ताकि आगे के मैचों में इसका फायदा मिल पाए. ऑलराउंडर इरफान पठान ने बतौर बल्लेबाज कुछ अच्छी पारियां खेली हैं. उनसे इस प्रदर्शन को जारी रखने की उम्मीद रहेगी लेकिन शेष बल्लेबाजों को भी बड़ी पारी खेलनी होगी क्योंकि दिल्ली को अब नॉकआउट की तैयारी करनी है.

राजस्थान-चेन्नई आमने-सामने

जयपुर, 9 मई, ए. लगातार दो जीत से उत्साहित राजस्थान रॉयल्स आज आईपीएल के मैच में चेन्नई सुपर किंग्स को हराकर प्लेऑफ में प्रवेश का मार्ग प्रशस्त करने उतरेगा. राजस्थान ने लगातार चार हार के क्रम को तोड़कर पिछले दो मैचों में किंग्स इलेवन पंजाब और पुणे वॉरियर्स को हराया.

चेन्नई से यह मुकाबला काफी रोचक होगा क्योंकि इसमें हार के मायने प्लेऑफ के दरवाजे बंद होना होगा. पिछले दो मैचों में राजस्थान रॉयल्स का टीम संयोजन जबर्दस्त रहा है. स्ट्रेलियाई हरफनमौला शेन वॉटसन और तेज गेंदबाज शॉन टैट की मौजूदगी उन्हें चेन्नई की टीम से बेहतर बनाती है. वॉटसन बल्ले और गेंद दोनों से फॉर्म में हैं जबकि टैट ने साबित कर दिया है कि अपने अनुकूल हालात में वह कहर बरपा सकते हैं. मेजबान टीम की बल्लेबाजी कप्तान राहुल द्रविड़ और अजिंक्य रहाणे पर निर्भर करती है. रहाणे सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में शीर्ष पर थे लेकिन अब आरेंज कैप वीरेंद्र सहवाग को मिल गई है. तीसरे नंबर पर वॉटसन गेंदबाजों को पीटने में माहिर हैं जबकि उनके बाद अशोक मनेरिया, ब्रैड हॉज और ओवेस शाह भी उपयोगी बल्लेबाज हैं. गेंदबाजी में टैट का साथ लेने के लिए सिद्धार्थ त्रिवेदी और वॉटसन हैं ही.

दूसरी ओर पिछली दो बार की चैम्पियन चेन्नई फॉर्म में नहीं है और पांच जीत तथा छह मैचों में हार के बाद छठे स्थान पर है. चेन्नई को तीन दिन का ब्रेक मिला है जिससे बाकी चार मैचों के लिए उसने अपनी रणनीति तय कर ली होगी. चेन्नई आईपीएल की सबसे सफल टीम है जिसने तीन बार फाइनल खेलकर दो बार खिताब जीता. महेंद्र सिंह धोनी की टीम में कई अंतरराष्ट्रीय सितारें हैं जो अपने दम पर मैच का पासा पलट सकते हैं. बल्लेबाजी कागजों पर काफी मजबूत है जिसमें फाफ डु प्लेसिस और मुरली विजय शीर्ष पर हैं जबकि मध्यक्रम में सुरेश रैना, डवेन ब्रावो, धोनी और एस बद्रीनाथ हैं. रविंद्र जडेजा, एलबी मोर्कल और आर अश्विन जैसे हरफनमौलाओं ने बल्लेबाजी क्रम को भी गहराई दी है. गेंदबाजी का मोर्चा बेन हिलफेनहॉस, मोर्कल, ब्रावो, जडेजा और अश्विन संभालेंगे.

‘मैं हूं सीनियर, यूसुफ नहीं’

नई दिल्ली, 9 मई, ए. कोलकाता नाइटराइडर्स के कप्तान गौतम गंभीर ने कहा कि टीम के प्लेऑफ तक पहुंचाने की जिम्मेदारी उनके और जैक्स कैलिस जैसे अनुभवी खिलाडिय़ों की है न कि ब्रैंडन मैक्कुलम और यूसुफ पठान की.

केकेआर ने दिल्ली डेयरडेविल्स को यहां आठ गेंदें शेष रहते छह विकेट से हराकर हासिल किये गये 17 अंकों की बदौलत दिल्ली को हटाकर अंकतालिका में शीर्ष स्थान पर कब्जा कर लिया है. इसके साथ ही कोलकाता ने मौजूदा सत्र के प्लेऑफ में अपनी जगह लगभग पक्की कर ली है. गंभीर ने कहा, टीम को प्लेऑफ तक पहुंचाने की जिम्मेदारी मेरी और वरिष्ठ बल्लेबाज कैलिस की है. हम नहीं चाहते कि मैक्कुलम या यूसुफ इस खेल को बदलें. यह जिम्मेदारी हमारी है क्योंकि हम अनुभवी हैं. गंभीर ने इस आईपीएल में अब तक कुल 457 रन बनाये हैं. कप्तान गंभीर का कहना है कि वह आईपीएल में सिर्फ खेलने के नहीं खेल रहे बल्कि उनका लक्ष्य तो हर मैच में जीत दर्ज करनी है. गंभीर ने कहा कि मेरे लिए हर मैच उतना ही महत्वपूर्ण और मुश्किल है. मैं बस हर मैच जीतना चाहता हूं क्योंकि हारकर ड्रेसिंग रूम जाना अच्छा नहीं लगता. आप खुश होना चाहते हैं और खुशी के लिए मैच जीतना जरूरी है. उन्होंने कहा कि हमारे पास कुछ अच्छे खिलाड़ी हैं.

कैलिस तो दिग्गज खिलाड़ी हैं और साथ ही हमारे पास मैक्कुलम, ब्रेट ली भी हैं. अगर आपकी टीम में ऐसे अनुभवी खिलाड़ी हों तो आपको उन्हें बार-बार प्रात्साहित करने की जरूरत नहीं होती. ये पेशेवर खिलाड़ी हैं. बस एक बात महत्वपूर्ण है कि हम एक इकाई की तरह मिलकर खेलें. गंभीर ने कहा कि इस सत्र में मैं अच्छी बल्ल्बेजी कर पा रहा हूं. आपको अगर रन बनाने हों तो आक्रामकता अपनानी ही पड़ती है और इसे पूरी टीम के जज्बे में शामिल करना होता है. प्लेऑफ से चार मैच दूर केकेआर टीम के कप्तान ने कहा कि केकेआर को अभी प्लेऑफ से पहले चार और मैच खेलने हैं. हमें अपनी लय बरकरार रखनी है. जब तक मैं हूं तब तक चाहे केकेआर के लिए या भविष्य में किसी और टीम के लिए जीतने की पूरी कोशिश करता रहूंगा. मेरे लिए हर मैच पहले या आखिरी मैच जितना ही महत्व रखता है.

Related Posts: