चुनाव में काले धन के प्रयोग का मामला

नई दिल्ली, 28 दिसंबर, नससे. पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में काले धन के प्रयोग पर अंकुश लगाने के लिए निर्वाचन आयोग ने सभी राजनीतिक पार्टियों को पत्र लिखा है. पत्र में पार्टियों से नकदी में लेनदेन से परहेज करने और चुनाव के दौरान अपने कार्यकर्ताओं को बड़ी धनराशि लेकर नहीं चलने का निर्देश देने को कहा गया है.

निर्वाचन आयोग ने पांचों राज्य उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में मान्यता प्राप्त पार्टियों को लिखे पत्र में चुनाव में दौरान धनबल के इस्तेमाल को रोकने का आग्रह किया है. आयोग के 26 दिसंबर के पत्र में कहा गया है कि चुनाव में निष्पक्षता और पारदर्शिता बनाए रखने के लिहाज से यह सलाह दी जाती है कि राजनीतिक दल नकदी में लेनदेन से परहेज करें और अपने पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं व प्रत्याशियों को चुनाव प्रक्रिया के दौरान बड़ी मात्रा में धनराशि लेकर नहीं चलने के निर्देश दें. प्रत्याशियों को चुनावी खर्चों के लिए अलग से बैंक खाता खोलने और संबंधित सभी खर्च इसी खाते से करने की सलाह भी दी गई है.  ईसी ने चुनाव वाले सभी राज्यों के आयकर विभाग के प्रमुखों को भी ताजा दिशानिर्देश जारी किए हैं, इसमें वित्तीय दलालों व हवाला एजेंटों और एयरपोर्ट से धन की अवैध आवाजाही पर नजर रखने को कहा गया है. पत्र में कहा गया है कि आयोग और मीडिया को ऐसी शिकायतें मिली हैं कि चुनावी प्रक्रिया के दौरान नकदी, शराब और आम जरूरत की चीजों का इस्तेमाल गुपचुप तरीके से मतदाताओं को प्रलोभन देने के लिए किया जा रहा है. मतदाताओं को नकदी, शराब और अन्य वस्तुएं बांटना रिश्वत की श्रेणी में आता है और यह भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत दंडनीय है.

Related Posts: