ग्वालियर 14 दिसम्बर.  दतिया में पदस्थ सहायक आबकारी अधिकारी संजय गुप्ता के ग्वालियर स्थित तीन मकानों पर लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक श्री एस.एस. गौर के नेतृत्व में छापा मारकर आय से अधिक संपत्ति का प्रकरण दर्ज कर करोडों की संपत्ति जप्त की है. संजय गुप्ता को गिरफ्तार कर जमानत पर रिहा किया गया है. वहीं अधिकारी और भी सम्पत्ति का ब्यौरा लेने में जुटे हुए हैं.

निरीक्षक लोकायुक्त शैलजा गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि डीएसपी लोकायुक्त सुरेन्द्र राय शर्मा, डीएसपी एम.के. उपाध्याय, निरीक्षक राजेष शर्मा, रामराज सिंह तोमर, आरबी शर्मा, अनिल अग्रवाल, नाथूराम अहिरवार, प्रधान आरक्षक कैलाश खंगेले, आरक्षक क्षीर सागर, आदि की टीम ने प्राप्त शिकायत के आधार पर सुबह २८ खेडापति कालौनी स्थित मकान एंव गोले का मंदिर के पास स्थित मकान पर छापा मारकर करोडो की अवैद्य संपत्ति नगदी, एलआईसी के कागज, बैंक की पासबुक, वाहन, एंव बैंक मे पडी सोलह लाख रूपये की नकदी, जप्त की. सूत्रों के अनुसार तीन मकान जिनकी कीमत करीब दो करोड एंव एक चार पहिया वाहन, पांच दो पहिया वाहन, साढे चार लाख का सोना, सोलह लाख बैंक में नकद बीमा में पौने चार लाख का निवेश तथा अन्य संपत्तियां सबंधी कागजात जप्त किए. सूत्रों के अनुसार लंबे समय से उक्त अधिकारी की शिकायत मिलने पर कार्यवाही की गई.  बताया गया है कि आबकारी अधिकारी श्री गुप्ता की सम्पत्ति का ब्यौरा लेने के लिए सगे संबंधी एवं रिश्तेदारों को भी खंगाला जा रहा है. जिससे पूरी सम्पत्ति का ब्यौरा मिल सके.

अस्पतालों में आयकर छापा

जबलपुर, 14 दिसंबर. आयकर विभाग द्वारा बुधवार को प्रात: सिटी हास्पिटल,ओमेगा चिल्ड्रन, जामदार हास्पिटल एवं जेके अस्पताल के संचालकों के घर योजनाबद्घ तरीके से छापा मारा गया. जिसमें सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत सिंह मोखा  अलावा जेके अस्पताल के संचालक डॉ. सावंत के यहां भी छापे की कार्यवाही शुरु की गई. आयकर विभाग अलग-अलग टीम बनाकर छापादल जांच में जुटा हुआ है.कितने आयकर की चोरी की गई है फिलहाल खुलासा नहीं हो पाया है,लेकिन फिर भी ऐसा माना जा रहा है कि लाखों की आयकर चोरी की संभावना बन सकती है इस मामले में जांच दल किसी प्रकार की चर्चा करने को तैयार नहीं है. इन निजी अस्पतालों के संचालकों के यहां बुधवार सुबह से चल रही इस कार्यवाही से अन्य अस्पतालों के संचालकों में हड़कं प मचा है.

संचालकों के मनों में दहशत व्याप्त हो गई है और वे पूरी तरह से सतर्क हो गये है. और अपने दस्तावेजों को दुरुस्त करने में जुट गये है. इस संदर्भ में आयकर कार्यालय भोपाल से प्राप्त जानकारी के मुताबिक इन निजी अस्पताल संचालको के द्वारा आयकर की चोरी किये जाने की खबरे लम्बें समय से मिल रही थी. इन अस्पताल संचालकों पर काफी दिनों से नजर रखी जा रही थी, व इनके आय-व्यय की जानकारी भी गुप्त रुप से ली जा रही थी. आयकर विभाग ने पुख्ता जानकारी के आधार पर अलग-अलग टीमो का गठन किया जिसमें जबलपुर की टीम भी शामिल है. बुधवार सुबह सिटी अस्पताल के संचालक मोखा जिनका कि कंस्ट्रक्शन का भी कार्य चलता है के सिविल लाइन निवास स्थान सहित अस्पताल में भी छापा मारा गया. इसके अलावा डॉ. सांवत के जेके अस्पताल व उनके निवास पर भी छापे की कार्यवाही शुरु की गई. आयकर विभाग के  छापे दल द्वारा आयकर संबंधित दस्तावेजों और अस्पताल संबंधित दस्तावेजों को भी एकत्र करते हुए उनकी जांच की जा रही है. इस छापे की कार्यवाही में कितने की आयकर चोरी की गई है. अभी इसका खुलासा नहीं किया गया. किन्तु फिर भी जांच के दौरान छनकर बाहर आ रही खबरों के अनुसार लाखों के आयकर की चोरी होने की संभावना है. संबंधित अस्पतालों के संचालकों द्वारा आयकर की राशि जमा किये जाने की भी संभावना बन रही है. फिलहाल वह राशि कितनी हो का पता नहीं चल सका. विभाग द्वारा पूरी सुरक्षा के बीच छापे की कार्यवाही व जांच जारी हैै.

Related Posts: