स्थाई के अलावा वैकल्पिक व्यवस्था से समस्याओं का कराया निदान, चर्चा में है सुधार

भोपाल, 13 मई, नभासं. नगर प्रशासक ए.के. चुतर्वेदी ने दायित्व संभालते ही कर्मचारियों की ज्वलंत समस्याओं का समाधान स्थायी या फिर वैकल्पिक व्यवस्था से निदान कराने की रणनीति बनाई और प्राथमिकतानुसार काम कराया है. इसके अलावा मुखिया एस.एस. गुप्ता और प्रभारी जीएम गिरीश श्रीवास्तव की सोच को सार्थक करने के अतिरिक्त उनकी दिक्कतों का निदान एवं निर्देशों का पालन कराने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

नवभारत की पैनी
बीते वित्तीय वर्ष में उत्पादन के महत्वपूर्ण दौर में मंत्री गौर के निर्देश पर निगम अधिकारियों द्वारा पानी की पर्याप्त या पूर्ण रूप से सप्लाई कम करने के कारण फैक्ट्री का काम प्रभावित हो रहा था. इस विषम जल संकट के समय चतुर्वेदी ने अपने संबंधित विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों से विचार-विमर्श कर आकस्मिक स्थिति के लिये व्यापक रणनीति बनाई. इतना ही नहीं कारखाने के यथासंभव समय-समय पर काम प्रभावित न हो, इस अनुपात में पानी उपलब्ध कराने में अपनी टीम के साथ दिन-रात जुटे रहे. इस काम में उनके अधीनस्थ वरिष्ठï प्रबंधक मुकेश श्रीवास्तव ने भी अच्छी भूमिका निभाई.

व्यवस्थाओं में सुधार
नगर प्रशासक चतुर्वेदी ने मौजूदा दौर में काफी समय से बिगड़ी व्यवस्था काफी हद तक सुधारनेे के लिये कदम उठाये. उन्होंने विभागों के योग्यता, दक्षता और क्षमतावान एवं विवेकशील अधिकारियों और कर्मियों का आंकलन कर उन्हें कामों के दायित्व सौंपे. साथ ही उनके बीच अच्छा तालमेल भी कराया जिसके सार्थक नतीजे प्रकाश में आये. इस दिशा में ईडी गुप्ता और जीएम श्रीवास्तव द्वारा समय-समय पर मॉनीटङ्क्षरग कर विभाग के सभी कर्मियों को प्रोत्साहित करते रहे.

आंशिक बंद प्लांट का जीर्णोद्धार
भेल बरखेड़ा पठानी स्थित सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट आवासों के खाली होने के अलावा लाइनें क्षतिग्रस्त होने से आंशिक रूप से बंद हो गया था जिसका चतुर्वेदी ने दूरगामी सोच के साथ जीर्णोद्धार करने के प्रस्ताव को पारित कराया. जिसकी स्वीकृति मुखिया गुप्ता और जीएम श्रीवास्तव ने तत्काल दे दी. अब इस प्लांट में पम्पों में सुधार कराया जा रहा है. वहीं नवीन सीवेज लाइनें बिछाने के साथ टूटी-फूटी लाइनों की मरम्मत का काम भी कराया जा रहा है. उक्त प्लांट को शीघ्र संचालित करवाने के अलावा राजस्व बढ़ोत्तरी के अन्य स्रोतों को खोजा जायेगा. प्लांट में आगामी वर्ष में अत्याधुनिक मशीनें लगाने की योजना है.

तालमेल
टाउनशिप के पूर्व मुखिया की कार्यशैली के चलते यूनियन के वरिष्ठï नेताओं एवं सदस्यों में काफी असंतोष था लेकिन नगर प्रशासक चतुर्वेदी ने अपने व्यक्तित्व, दक्षता एवं क्षमता के साथ वरिष्ठï नेताओं सहित टीएसी सलाहकार सदस्यों से भी संवेदनशील संवाद सतत्ï स्थापित कर उन्हें संतुष्टï किया. उन्होंने समस्याओं का स्थाई हल नहीं होने की स्थिति में वैकल्पिक व्यवस्था द्वारा निदान कराने की कार्यशैली अपनाई. वहीं ठेकेदारों को हिदायतें दी कि काम में उपयोग होने वाले मटेरियल की गुणवत्ता निम्न स्तर की नहीं होनी चाहिये. इधर ग्रीष्मऋतु के आते जल संकट से निपटने हेतु जवाहर बाग का ट्ïयूबवेल, टैंकरों की मरम्मत एवं हैंडपम्पों को चलू कराने की दिशा में काम करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये. इधर टाउनशिप के रहने योग्य आवासों का रिनोवेशन कराया. छतों पर डामरीकरण और वाटर प्रूङ्क्षफग सहित सड़कों पर डामरीकरण कराया. कुछ मार्केट में हाईमास्ट लाइटों द्वारा समुचित प्रकाश की व्यवस्था कराई. इस तरह से वह सभी को कुछ हद तक संतुष्टï करने में जुटे रहे.

अवकाश के दिन रणनीति
ईडी दरबार में व्यस्त रहना और उनके निर्देशों का पालन कराने हेतु त्वरित कार्यवाही करना. साथ ही मौजूदा दौर में आने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसे 26 जनवरी, 15 अगस्त, मिलाप मेला, दशहरा महोत्सव, जेल हिल्स प्लांट की देखरेख के साथ विभिन्न जयंती के कार्यक्रम को अंजाम देने हेतु रणनीति पर अपने अधीनस्थ कर्मचारियों से विस्तार से चर्चा करना. यहां तक कि अवकाश के दिन काम करने के पीछे मुख्य कारण है कि रोजाना आम भेल कर्मचारियों या फिर व्यापारियों सहित अन्य कामों की बैठक में व्यस्तता होने के कारण रणनीति पर विचार करना संभव नहीं हो पाता है. इसके अलावा स्टाप की कमी भी एक वजह है इसलिये अवकाश के दिन सहित अन्य घोषित अवकाश के दिनों में भी नगर प्रशासक अपनी टीम के साथ चर्चा में लगे रहते हैं.

अतिक्रमण पर अंकुश
भेल की जमीन पर अतिक्रमण रोकने के लिये टाउनशिप को घेरने हेतु बाउंड्रीवाल बनाने का काम जारी है. वहीं बेदखली अमले द्वारा समय पर मौका-मुआयना कर अवैध कब्जा हटाने की कार्यवाही की जाती है.

अमल
सीएसआर योजना के तहत गोद लिये ग्रामों में विकास कार्य करना साथ ही 11 सूत्रीय कार्यक्रम के तहत सोलर लाइट लगना, विधवा के बच्चों को स्कॉलरशिप वितरण, जागरूकता कार्यक्रम, स्वास्थ्य शिविर आयोजित करना, स्कूली बच्चों को गणवेश वितरण, ग्रामों के स्कूल में फर्नीचर सहित आधुनिक कम्प्यूटर आदि कामों को अंजाम देने का दायित्व बखूबी नगर प्रशासन स्टाप निभाता रहा है. गत वर्ष विभाग उक्त योजना के तहत 63 लाख का काम पूरा कराया गया. साथ ही पड़रिया ग्राम में सोलर लाइटें लगवाई. वर्ष 12-13 में 19 सूत्रीय कामों हेतु बजट करीब एक करोड़ की स्वीकृति मिल गई.

टाउनशिप शीघ्र संवरेगी
नगर प्रशासक का ध्येय है निकट भविष्य में टाउनशिप आकर्षक बनाने की. साथ ही कर्मचारियों को पूर्ण रूप से व्यवस्थित बुनियादी सुविधायें भी मुहैया कराने की सोच. विकास एवं सौन्दर्यता को देख लोगों को लगेगा कि टाउनशिप पुन: अपने परिवेश में नजर आने लगी है.

अधूरे काम
टाउनशिप में केंद्र सरकार की नीतियों के प्रभाव से सीमेंट मुहैया ट्रक द्वारा कराने की बाध्यता के चलते विभाग को काम के अनुपात में सीमेंट उपलब्ध नहीं हो पाई. इस वजह से आवासों की छतों का वाटर प्रूङ्क्षफग का और सीवेज लाइनें बिछाने का बाधित हुआ किन्तु यहां अधिकारियों सहित कर्मचारियों का प्रयास है कि टाउनशिप के बाशिंदों को बुनियादी सुविधायें मानसून सत्र पूर्व उपलब्ध कराने की है. नगर विभाग में अभी कर्मचारियों व अधिकारियों की काफी कमी है. उक्त कमी को पूरा करने में शीर्ष प्रबंधन न केवल सहयोग कर रहा बल्कि इस दिशा में आवश्यक कदम उठाने की योजना प्रस्तावित है.

Related Posts: