सीएमएचओ ने प्रसूताओं से अवैध रूप से ली गयी राशि नर्सों से वापस दिलाई

गढ़ाकोटा, 5 दिसम्बर नससे. सागर जिले के गढाकोटा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद में भारी  अनियमितताओं पर नाराजगी जताता हुऐ  सीएमओएच  बी के मिश्रा ने स्टाफ को कडी फटकार लगायी  वही  प्रसूताओं से नर्सो द्वारा वसूली गयी तीन तीन सौ रूपये कीराशि वापस करवा दी. मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने तीन डाक्टरों को भी निलंबित कर दिया है.

प्रदेश  के  पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव के गृह नगर गढ़ाकोटा में स्थित  यह सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बिना प्रभारी के चल रहा है. अस्पताल में किसी भी कर्मचारी से कोई कुछ कहने वाला नहीं था. अस्पताल में पदस्थ डॉक्टरों द्वारा प्रभारी लेने से आनाकानी की जा रही थी. अस्पताल में सफाई व्यवस्था चौपट हो गई थी. जिसकी शिकायत लोगों ने सीएमओएच सागर बीके मिश्रा से की थी. सोमवार की सुबह साढ़े सात बजे सीएमओएच इस स्वास्थ्य केंद्र का अचानक निरीक्षण करने पहुंचे तो वहां पर न तो कोई डॉक्टर था और न हीं कोई स्टाफ का कर्मचारी मौजूद था. अस्पताल में पदस्थ सभी नर्सें गायब थीं. अस्पताल परिसर में भारी गंदगी के ढेर लगे पाये गये  तथा मरीजों को अस्पताल में मिलने वाली दवाईयां भी नहीं थीं. महिला वार्ड में गंदगी के कारण बदबू आ रही थीं. इन्हीं बातों से अप्रसन्न होकर श्री मिश्रा ने डॉक्टरों को जमकर फटकार लगाई. निरीक्षण के दौरान पाया गया कि अस्पताल का ओटी कक्ष पोषण पुनर्वास कक्ष, वेक्सीन कक्ष, टी.बी. दवा कक्ष एवं प्रयोगशाला कक्ष सफाई कर्मचारी द्वारा दो दिन से साफ नहीं किया गया था. मौके पर श्री मिश्रा ने सफाई कर्मचारी श्रीमती हेमा को तत्काल अलग करने के निर्देश दिये. अस्पताल में कुछ ही कर्मचारी मौजूद थे. अनुपस्थित कर्मचारियों का पंचनामा बनाकर उपस्थिति रजिस्टर सीएमओ अपने साथ ले गये.

सीएमओएच महिला वार्ड में फैली गंदगी एवं बदबू मार रहा टॉयलेट का निरीक्षण कर रहे थे.इसी दौरान वहां के वार्ड में डिलेवरी के बाद भर्ती रेगुवा की रेखारानी काछी, उमरा की संतोष रानी एवं झागर की मीना कुर्मी ने श्री मिश्रा को बताया कि यहां की एएनएम नेहा साहू एवं प्रीति पांडे द्वारा उनसे 300-300 रुपये लिये गये हैं. श्री मिश्रा ने तत्काल एएनएम को बुलाकर वार्ड में भर्ती महिलाओं के पैसे वापस कराये. महिलाओं ने शिकायत की कि डिलेवरी के दौरान हमारी पलंग पर चादर और गद्दा अस्पताल प्रशासन द्वारा उपलब्ध नहीं कराया गया है. श्री मिश्रा ने डॉक्टरों को फटकार लगाते हुए अस्पताल परिसर की सफाई व्यवस्था में सुधार करने एवं सभी पलंगों पर चादर बिछाने के निर्देश दिये. डॉ. बी.के. मिश्रा ने बताया कि गढ़ाकोटा अस्पताल के 3 डॉक्टरों को निलंबित कर पूरे स्टाफ को कारण बताओ नोटिस दिये गए हैं. अस्पताल का प्रभार बीएमओ रहली को दिया गया है. साथ ही कलेक्टर एवं संभाग आयुक्त तथा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को भी कार्यवाही से अवगत करा दिया गया है.

उल्लेखनीय है कि प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा प्रसूती महिलाओं एवं नवजात बच्चों के लिए लाभकारी योजनाएं चलाई जा रही हैं, लेकिन कुछ स्थानों पर इन योजनाओं को पलीता लगाया जा रहा है. सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में बने आवासों पर यहां पर पदस्थ कर्मचारियों द्वारा कई सालों से अवैध कब्जा कर निवास स्थान बना लिया गया है, सभी कर्मचारी अस्पताल के बिजली कनेक्शन से अपने आवासों में बिजली जला रहे हैं. हीटर से खाना बनाने के साथ नल के पानी का कनेक्शन भी अस्पताल की बिजली से चला रहे हैं. इन सभी बातों को लेकर सीएमओ सागर में सभी कर्मचारियों को शासकीय आवास खाली करने के निर्देश देते हुये उन पर कार्यवाही करने का आस्वासन दिया गया है.

Related Posts: