भोपाल,23 दिसंबर.नभासं. समूचे विश्व में हिन्दू धर्म का हाल तो बेहाल है ही, लेकिन अपने ही देश में अब हिन्दू धर्म असुरक्षित है. जिस  तरह से हिन्दू धर्म को कमजोर करने की राजनीति देश में हो रही है.

वहीं महाराष्ट्र सरकार हाल ही में धनाढ्य मंदिरों को कब्जे में ले रही हैं इसी प्रकार सरकार द्वारा चलाए जा रहे योजनाओं के जरिए हिन्दुओं पर अंकुश लगाने का कार्य किया जा रहा है. यह बात शुक्रवार को अनंत विभूषित जगतगुरू नरेंद्राचार्य ने यहां पत्रकार वार्ता में कही. उन्होंने सरकारों पर आरोप लगाते हुए कहा कि परिवार नियोजन का कार्य सराहनीय है लेकिन इस नियम के पालन में सभी समुदायों के साथ एक जैसा व्यवहार किया जाना चाहिए. वहीं उन्होंने धर्म परिवर्तन जैसे विषय पर चर्चा करते हुए कहा कि हिन्दुओं को अपने परिवारों में भारतीय संस्कृति एवं संस्कारवान बनाए ताकि वह किसी के बहकावे पर धर्म परिवर्तन न करे. साथ ही उन्होंने अण्णा हजारे के आंदोलन को सही करार देते हुए कहा कि उनके द्वारा किया जा रहा कार्य जनहितैषी है सरकार को जनलोकपाल विधेयक को आज नहीं तो कल करना ही होगा. साथ ही उन्होंने पत्रकारों को बताया कि जो व्यक्ति समस्याओं से ग्रस्त हैं वह अपने आराध्य का दस मिनट एकात्य चित्र होकर भक्ति करें तो उनमे दूरदृष्टि नेतृत्व क्षमता बढेगी और आठ दिन के अंदर ही उनकी समस्याएं दूर होंगी. उन्होंने भगवत गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित करने की मांग को जायज ठहराते हुए कहा कि यह ग्रंथ मानव को जीवन जीने की कला सीखाता है. इस पर पाबंदी लगाया जाना उचित नहीं है और सरकार को इसे राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित करना चाहिए.

Related Posts: