मुंबई. ऊंची मुद्रास्फीति, बढ़ती ब्याज दर और यूरो क्षेत्र के गहराते ऋण संकट से उपजे अनिश्चित वैश्विक आर्थिक माहौल ने वर्ष 2011 में समूचे पूंजी बाजार का खेल बिगाड़ दिया. देश के शेयर बाजारों में लगातार गिरावट से वर्ष के दौरान निवेशकों को 20,00,000 करोड़ रुपये की पूंजी का नुकसान उठाना पड़ा.

इससे पहले दो वर्षों में भारतीय शेयर बाजारों ने निवेशकों को अच्छी कमाई दिलाई लेकिन इस साल चौतरफा आर्थिक मंदी और महंगाई से कारोबारी धारणा दबी रही. रुपये ने भी निवेशकों को झटका दिया. छोटे निवेशक ऊंचे दाम पर शेयर लेकर फंसे रहे. रिलायंस, स्टेट बैंक और कोल इंडिया जैसे शेयरों ने भी निवेशकों को नुकसान पहुंचाया. अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया 53-54 रुपये प्रति डॉलर के ऐतिहासिक न्यूनतम स्तर तक गिर गया जिससे देश का आयात महंगा हो गया. बंबई स्टॉक एक्सचेंज और नैशनल स्टॉक एक्सचेंज के सूचकांक इस साल करीब 26 फीसदी नीचे आ गए. बंबई स्टाक एक्सचेंज को 30 शेयरों वाला सेंसेक्स गत 20 दिसंबर को एक साल पहले की तुलना में 5,334.01 अंक यानी 26 फीसदी गिरकर 15,175.08 अंक रह गया जबकि पिछले साल के आखिर में सेंसेक्स 20,509.09 के स्तर पर था.

इसी तरह निफ्टी पिछले साल के मुकाबले 1,590.30 अंक यानी 25.92 फीसदी गिरकर 4,544.20 अंक रह गया. हालांकि, इसके बाद बाजार में थोड़ा सुधार हुआ और कल सेंसेक्स 15,873.95 अंक और निफ्टी 4,750.50 अंक पर बंद हुआ. विशेषज्ञों ने कहा कि निवेशक भारत के मामले में सतर्क हैं. वैश्विक स्तर पर गहराते यूरोपीय ऋण संकट और अमेरिका की साख घटने से आर्थिक वृद्धि का रुख प्रभावित हुआ. रुपया 31 पैसे गिरकर  53 के पार -घरेलू शेयर बाजार में गिरावट और आयातकों द्वारा डॉलर की मांग आने से मुद्रा विनियम बाजार में रुपया 31 पैसे की गिरावट के साथ 53.03 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ. पिछले कारोबारी दिवस यह 52.72 रुपये प्रति डॉलर पर रहा था. इस बीच, रिजर्व बैंक ने कहा है कि रुपये की गिरावट को थामने के लिए जल्द ही कुछ और कदम उठाए जाएंगे. अंतर बैंकिंग मुद्रा बाजार में मंगलवार को रुपये में गिरावट के साथ 52.81 के स्तर पर कारोबार की शुरुआत हुई. सत्र में यह 52.76 के उच्चतम और 53.13 के न्यूनतम स्तर तक गया. आखिर में 31 पैसे की गिरावट के साथ 53.03 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ.

सेंसेक्स में 146 अंकों की गिरावट

देश के शेयर बाजार सप्ताह के तीसरे दिन बुधवार को गिरावट के साथ बंद हुए. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 146.10 अंकों की गिरावट के साथ 15,727.85 पर, जबकि निफ्टी 44.70 अंकों की गिरावट के साथ 4,705.80 पर बंद हुआ. इससे पहले दोपहर 12:40 बजे सेंसेक्स 181.85 की गिरावट के साथ 15,692.10 पर कारोबार कर रहा था. वहीं इसी समय निफ्टी 57.70 अंकों की गिरावट के साथ 4,692.80 पर कर रहा था. शेयर बाजारों में शुरुआती कारोबार में भी गिरावट का रुख देखा गया. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 19.59 अंकों की गिरावट के साथ 15854.36 पर जबकि निफ्टी 5.70 अंकों की मामूली बढ़त के साथ 4756.20 पर खुला. सुबह करीब 9.45 बजे बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 81.25 अंकों की गिरावट के साथ 15792.70 पर जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 36.05 अंकों की गिरावट के साथ 4714.45 पर कारोबार कर रहा था. बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट का रुख था.

Related Posts: