औंकारेश्वर में दिन भर चली कार्यवाही

ओंकारेश्वर 15 दिसंबर. गुरुवार को तीर्थ नगरी ओंकारेश्वर के ब्रम्हपुरी क्षेत्र में अवैध घोषित की गई ऐश्वर्या होटल को बम ब्लास्ट कर गिरा दिया गया.

गुरुवार प्रात: 10 बजे बम एक्सप्लोजर एक्सपर्ट शरद सरवटे व उनकी टीम ने ऐश्वर्या होटल पहुंचकर तोडऩे के लिये कार्य शुरु कर दिया था. तोडने की कार्रवाही में बम विस्फोट विशेषज्ञ शहद सरवटे के साथ 11 लोग थे. नगर पंचायत के 60 कर्मचारी मजदूर लगे पटवारी कोटवारी के अलावा 20 पुलिस जवान भी मौजूद थे. होटल के आसपास कीदुकानों को बंद करा दिया गया था. शाम को लगभग 4.30 बजे तक जोरदार विस्फोट हुवा और ऐश्वर्या होटल ध्वस्त हो गई. दो मंजिल बना हुवा हिस्सा पूरी तरह ध्वस्त हो गया धुल के गुबारे के साथ होटल गिर गई. नगर में पहली बार बम विस्फोट से भवन गिराने की कार्रवाही को देखने के लिये निवासियों में काफी कौतुहला देखा गया. बम एक्सप्लोजर एक्सपर्ट शरद सरवटे ने बताया कि बिल्डिंग में 382 होल किये गये थे. सभी होटल में विस्फोटक लगाया गया था. साड़े बारह किलों विस्फोटक इसमें लगा. एक विस्फोट से पूरी बिल्डिंग ध्वस्त हो गई इस पर करीब 90 हजार रुपये का खर्च आया बिल्डिंग नियंत्रित विस्फोटक प्रणाली के तहत धराशायी5 की गई है. पूरा भवन ध्वस्त हो चुका है.

सी.एम.ओं. धिरेन्द्र सिकरवाल ने बताया कि तोडने की कार्रवाही के पूर्व होटल का सामान बाहर निकालकर उसका पंचनामा बनाया गया. तोडऩे की कार्रवाही के दौरान एक पत्र आया था स्टे मिलने की बात लिखी थी. किन्तु स्टे संबंधित कोई आदेश नहीं थे. कार्रवाही में कोई रुकावट नहीं आई. खंडवा न्यायालय के 2009 में हुवे आदेश के बाद से तोडने की प्रक्रिया लम्बित थी. मुख्यमंत्री द्वारा कलेक्टर को तोडऩे के निर्देश देने पर तत्काल तोडऩे की कार्रवाही की गई. आरोप था कि धर्मशाला केनाप पर अनुमति थी. होटल मालीक इन्द्रजीत जुनेजा का कहना है. होटल भवन को दूर्भावना वश तोरड़ा गया है. में नगर पंचायत पर 40 लाख रुपये का दावा लगाऊगा.

Related Posts: