कड़ाके की ठंड के बजाए लग रही गर्मी

अजीबोंगरीब मिजाज

मंगलवार, 6 दिसंबर. महीना जहां पाले की बरसात, ठिठुरन और लकदक गर्म कपड़ों के लिए जाना जाता है, वहीं इस बार मौसम कुछ इस तरह बदला हुआ है कि दिन छोड़ रात में भी पंखे के बिना नींद नहीं आती. पारे का यह उछाल सामान्य नहीं बल्कि 6-7 डिग्री तक हुआ है, जो इस मौसम में विचित्र घटना है.

मौसम विभाग से संपर्क करने पर बताया गया कि इस तरह के परिवर्तन मौसम में होते रहते हैं. फिलहाल इसकी वजह बंगाल की खाड़ी में उड़ीसा के तटीय क्षेत्रों में ‘माइस्चर इन्कर्शन’ के कारण हो रहा है. वैसे भी अभी साउथ-वेस्ट से गर्म हवाएं चल रही हैं. कुछ दिन इसी तरह मौसम रहेगा. पहले भी ऐसा हुआ है व आगे भी हो सकता है. कृषि विज्ञानी कुट्टी मेनन के अनुसार पर्यावरण क्षरण के कारण अब कोई भी मौसम निर्धारित समय पर न तो शुरू होता है, न बना रहता है. खेतों में खड़ी फसलों को जब पाले की जरूरत हो और तब तापमान में असामान्य रूप से 6-7 डिग्री की बढ़त हो तो फसलों को तो नुकसान होना ही है. ऐसे गर्म मौसम में ओंस भी नहीं गिरती, जिससे अक्सर रबी की फसलें पनपती हैं.

जबलपुर. बीते दो वर्ष के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो 2009 में अधिकतम व न्यूनतम तापमान 28.0 व 12.4 तथा 2010 में अधिकतम व न्यूनतम तापमान 23.8 व 9.0 था. इस वर्ष 2011 की 6 दिसंबर का अधिकतम व न्यूनतम 29.5+4 व 14.4+4 है.  मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक बीते दो वर्षों के आज के दिन अनुसार ठंड असर नहीं दिखा रही है. दक्षिणी हवाओं के कारण थोड़ी ठंड जरूर पड़ रही है. कड़ाके की ठंड के दिनों में हो रहा गर्मी का अहसास

ग्वालियर. पांच दिसंबर को अधिकतम तापमान 30.5 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 11.7 डिग्री सेल्सियस रहा जबकि आज छह दिसंबर को अधिकतम तापमान 30.4 दर्ज किया गया और न्यूनतम तापमान 13.9 डिग्री रहा. लेकिन पिछले दो वर्ष में देखें तो वर्ष 2009 में पांच दिसंबर को अधिकतम तापमान 28.9 और न्यूनतम तापमान 11.4 दर्ज किया गया था जबकि छह दिसंबर को अधिकतम तापमान 28.7 और न्यूनतम तापमान 13.1 दर्ज किया गया था. वर्ष 2010 में पांच दिसंबर को 8.2 डिग्री न्यूनतम और 23.5 अधिकतम तापमान दर्ज था. इसी साल छह दिसंबर को 23.3 अधिकतम व 8.5 न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया.

पाला के मौसम में माथे पर पसीना

विंध्य में ठंड की बेरूखी, किसान चिंतित
रीवा. गत वर्ष आज के दिन अधिकतम तापमान 24.0 डिग्री सेल्सियस आंका गया था, पर इस बार आज के दिन अधिकतम तापमान 29.2 सेल्सियस रहा.  इस समय अधिकतम तापमान 25.25 डिग्री सेल्सियस होना चाहिए और न्यूनतम 7.7 होना चाहिये. गत वर्ष के आंकड़े पर नजर डाले तो 6 दिसंबर का अधिकतम तापमान 24.0 डिग्री था और न्यूनतम 6.8 डिग्री आंका गया था, पर आज का अधिकतम तापमान 29.2 और न्यूनतम 9.2 आंका गया. ङ्क्षवंध्य में जिस तरह से ठंड की बेरुखी है इसे लेकर सभी चिंतित है.

फसल के लिए ठंड आवश्यक: सुब्रत
जिस तरह से इस समय तापमान है और ठंडी नहीं पड़ रही है. उससे रबी की फसलें प्रभावित होंगी. ठंड की आवश्यकता है. मौसम की बेरुखी से किसान चिंतित हैं. इस बार बारिश अच्छी होने से कृषि का रकबा बढ़ा है और अच्छे उत्पादन की संभावना है, लेकिन मौसम जिस तरह से इस समय है उससे हम किसानों की चिंताएं बढ़ गई हैं.

सतपुड़ा अंचल में बढ़ेगा तापमान
छिंदवाड़ा. दिसंबर की शुरूआत में न्यूनतम तापमान 11 डिग्री और अधिकतम 26.5 था, जो लगातार बढ़ते हुए 6 दिसंबर तक न्यूनतम 15.5 व अधिक तम 29.5 डिग्र्री पर पहुंच गया है, जबकि गत वर्ष इस अवधि में न्यूनतम तापमान 9 से 10 डिग्री के आसपास था. कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को सलाह दी है कि सिंचाई क्षेत्र में उन्नत बीज के गेहूं की बोवनी कर सकते हैं. आंशिक बादल रहेंगे मगर वर्षा की संभावना नहीं है.

सर्दी के दिनों में गर्मी का अहसास
भोपाल. कड़ाके की सर्दी वाले इस माह में गर्मी का अहसास हो रहा है. प्रदेश के अधिकतर हिस्सों में तापमान सामान्य से  ऊपर पहुंच गया है, जिससे दिन में काफी गर्मी महसूस की जा रही है, वहीं रात्रि के  तापमान में भी बढ़ोतरी हो गई है. ठंड का असर सुबह और देर रात्रि में ही महसूस हो रहा है. राजधानी भोपाल में अधिकतम तापमान 31.6 डिग्री  और न्यूनतम 17.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से क्रमश: पांच और तीन डिग्री अधिक है.

मौसम केंद्र के निदेशक डॉ. डीपी दुबे ने बताया कि प्रदेशभर में न्यूनतम तापमान में एक से दो डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी हुई है. उन्होंने कहा कि  गुजरात के आसपास ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है जिसकी वजह से नमी आने के कारण न्यूनतम तापमान बढ़ गया है. इसके अलावा अभी हवाएं भी दक्षिण पश्चिम और पश्चिमी चल रही है.उन्होंने बताया कि उतरी हवाएं आने के बाद तापमान में कमी आयेगी. मौसम का ऐसा ही मिजाज रहा तो चना और गेहूं की फसल पर इल्ली लगने की संभावना बन सकती है. मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार इंदौर में अधिकतम तापमान 31.6 और न्यूनतम 16.8 डिग्री रहा जो सामान्य से छह डिग्री अधिक है. ग्वालियर में अधिकतम 30.4 और न्यूनतम 13.6 और जबलपुर में 29.7 और न्यूनतम 14.4 डिग्री रहा. आगामी चौबीस घंटों के दौरान मौसम साफ रहेगा.

Related Posts: