नई दिल्ली. अक्टूबर से अप्रैल, 2011-12 की अवधि में देश में शकर उत्पादन 11 फीसदी बढ़कर 2.51 करोड़ टन पर पहुंच गया। भारतीय शकर मिल संघ (इस्मा) ने यह जानकारी देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में उत्पादन बेहतर रहने की वजह से कुल उत्पादन अच्छा रहा है। पिछले विपणन वर्ष मेें शकर उत्पादन 2.26 करोड़ टन रहा था।

इस्मा ने कहा कि शकर उत्पादन वृद्धि में मुख्य योगदान उत्तर प्रदेश का रहा है, जहां इस साल अभी तक उत्पादन लगभग 11 लाख टन बढ़कर 69.5 लाख टन रहा है। देश के प्रमुख शकर उत्पादक राज्य महाराष्ट्र में उत्पादन 5,00,000 टन बढ़कर 88.3 लाख टन रहा है। इस अवधि में कर्नाटक में शकर उत्पादन 37.1 लाख टन, तमिलनाडु में 15.7 लाख टन और आंध्र प्रदेश में 11.1 लाख टन रहा है।

बेहतर उत्पादन के मद्देनजर इस्मा ने भरोसा जताया है कि चालू विपणन सत्र में 2.6 करोड़ टन के उत्पादन का लक्ष्य हासिल हो जाएगा। संघ ने कहा है कि शेष 9 लाख टन उत्पादन में अधिकांश तमिलनाडु से हासिल होने की उम्मीद है। चालू सत्र में मई से सितंबर के दौरान तमिलनाडु से अभी भी 6,50,000 टन का उत्पादन प्राप्त होने की उम्मीद है। इस्मा का शकर उत्पादन अनुमान सरकार के 2.52 करोड़ टन के अनुमान से अधिक है।

Related Posts: