रसोई गैस के भी देने पड़ सकते हैं 662 रुपये

नई दिल्ली 15 सितंबर. सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल के दाम 3 रुपए लीटर तक बढ़ा दिए हैं. बढ़ी कीमतें गुरुवार रात 12 बजे से वसूली जाएंगी. तेल कंपनियों का कहना है कि डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपए के दो वर्ष के न्यूनतम स्तर तक पहुंचने से इंडियन ऑयल, बीपीसीएल और एचपीसीएल की कच्चा तेल आयात करने की लागत बढ़ गई है.

एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक तीनों सरकारी तेल कंपनियों को लागत से कम कीमत पर पेट्रोल बेचने के कारण प्रति लीटर 2.61 रुपए या रोज 15 करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है. कंपनियों को चालू वित्त वर्ष में अब तक 2,450 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है.  गत वर्ष जून में सरकार पेट्रोल की कीमत नियंत्रणमुक्त कर चुकी हैं. यानी अब कंपनियों को अंतरराष्ट्रीय कीमतों के अनुरूप यहां कीमतें तय करने की छूट मिली हुई है. तब से कई बार पेट्रोल की कीमतें बढ़ाई जा चुकी हैं.

घरेलू गैस भी हो सकती है महंगी – तेल कंपनियों के घाटे पर चर्चा के लिए मंत्री समूह (जीओएम) की बैठक शुक्रवार को होगी. बैठक की अध्यक्षता वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी करेंगे. इस बैठक में घरेलू रसोई गैस सिलेंडर से सब्सिडी हटाने का मसला भी साफ हो जाएगा. इस बैठक में यह तय होने की उम्मीद है कि मेट्रो शहरों में एक परिवार को साल में सब्सिडी वाले कितने सिलेंडर दिए जाएं.
क्या है प्रस्ताव – एक परिवार को साल में अधिक से अधिक चार से छह सिलेंडर सब्सिडी पर मुहैया कराने का प्रस्ताव है. इसके बाद जो भी सिलेंडर दिए जाएं उसकी पूरी कीमत ग्राहकों से ली जाए.

जिन लोगों के पास कार अथवा दोपहिया वाहन या अपना घर हो या फिर उनका नाम आयकरदाताओं की सूची में शामिल हैं, ऐसे लोगों को रियायती दर पर रसोई गैस सिलेंडर की आपूर्ति सीमित किए जाने का भी प्रस्ताव जीओएम ने किया है.
बैठक में इस बाबत कोई फैसला होता है तो ग्राहकों को अतिरिक्त सिलेंडरों के लिए 395 रुपए की जगह 662 रुपए देने पड़ेंगे.

फिलहाल सरकार रसोई गैस सिलेंडर पर 267 रुपए की सब्सिडी दे रही है.

Related Posts:

अग्नि-5 की आयोजना से ही बेचैन हो उठा चीन
एसपी सलविंदर और उसके दोस्तों के ठिकानों पर छापे
जेएनयू में अफजल की फांसी के विरोध में हुआ कार्यक्रम, दिए जांच के आदेश
कीर्ति, चिदंबरम को लेकर दोनों सदनों में हंगामा, अवैध कमाई वाले पिता-पुत्र हों गि...
ऑड-ईवन के संकट से खुद निपटने में सक्षम : लोकसभा सचिवालय
मेट्रो से यात्रा बने प्रतिष्ठा का विषय: मोदी