वाशिंगटन.20 सितंबर. अमेरिका चाहता है कि भारत और चीन जैसी उभरती अर्थव्यवस्थाएं निरंतर विकास करती रहेए क्योंकि इससे वैश्विक अर्थव्यवस्था मजबूत होगी और अमेरिका को भी लाभ होगा.

अमेरिकी वित्त मंत्रीए टिम गीथनर ने सोमवार को संवाददाताओं से कहाए कि मैं समझता हूं कि वैश्विक अर्थव्यवस्था की बड़ी ताकत भारतए चीनए ब्राजीलए व रूस सहित प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्थाओं में अधिक समय तक बहुत तीव्र विकास दर रहने की संभावनाएं है.
व्हाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान जब गीथनर से पूछा गया कि वैश्विक आर्थिक हालात मेंए खासतौर से यूरोप में क्या वह ब्रिक देशों की कोई उचित भूमिका देखते हैए उन्होंने कहा कि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम यह चाहते है कि विकास दर लंबी अवधि तक बनी रहे.

उन्होंने कहा कि अति आशावादी दीर्घकालिक वृद्धि की उन संभावनाओं को स्वीकार करने से हम एक देश के रूप में लाभान्वित होंगे. हम अधिक निर्यात करेगे. हमारे लिए अमेरिका में अधिक रोजगार तैयार होंगे. हम उन्हे वैश्विक वृद्धि में सहयोग करते देखना चाहते हैए और यह सहयोग अधिक संतुलित व निष्पक्ष तरीके से हो.

गीथनर ने कहा कि उन्हे अमेरिका में मौजूद नीतियों से अलग तरह की नीतियों की जरूरतों का सामना करना होगाए क्योंकि वे एक बिल्कुल अलग स्थिति में है. उन्होंने कहा कि वे वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए शक्ति के एक बड़े स्त्रोत है और भविष्य में वे जितनी तेजी के साथ विकास करेगेए एक देश के रूप में हमें उतना ही लाभ होगा. इससे वैश्विक अर्थव्यवस्था उतनी ही अधिक संतुलित होगी.

गीथनर ने कहा कि यूरोप को अपने वित्तीय संकट से उबरने के लिए एक अधिक प्रभावी रणनीति बनाने में मदद करने में अमेरिका की एक बड़ी भूमिका है. उन्होंने कहा कि यूरोप के पास अपनी चुनौतियों से निपटने की क्षमता है.

Related Posts: