प्रधानमंत्री मनमोहन से की म्यांमार के राष्ट्रपति से भेंट

नेपिदा, 28 मई. भारत और म्यांमार ने सोमवार को एक दर्जन समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इसमें 50 करोड़ डॉलर के ऋण, सीमावर्ती इलाकों का विकास तथा हवाई सेवाओं से सम्बंधित समझौते शामिल हैं। इन समझौतों पर हस्ताक्षर, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और म्यांमार के राष्ट्रपति थेन सेन के साथ हुई व्यापक बातचीत के बाद हुए हैं।

भारतीय आयात-निर्यात बैंक और म्यांमार फॉरेन ट्रेड बैंक के बीच 50 करोड़ डॉलर के एक ऋण के लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए गए। दोनों देशों के बीच भारत-म्यांमार सीमावर्ती क्षेत्र विकास और हवाई सेवा विकास सम्बंधी समझौतों पर भी हस्ताक्षर हुए। म्यांमार इंस्टीट्यूट ऑफ इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी और एडवांस सेंटर फॉर एग्रिकल्चर रिसर्च एंड एजुकेशन, येजिन एग्रिकल्चर युनिवर्सिटी स्थापित करने के लिए भी सहमति पत्र पर हस्ताक्षर हुए। चावल जैव उद्यान, सीमावर्ती बाजारों की स्थापना और एक संयुक्त व्यापार एवं निवेश मंच से सम्बंधित समझौतों पर भी हस्ताक्षर हुए। दोनों देशों के बीच 2012-15 तक सांस्कृतिक आदान-प्रदान के एक कार्यक्रम पर भी सहमति बनी है।

दोनों देशों ने रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान (आईडीएसए) और म्यांमार इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रेटजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज (एमआईएसआईएस) के बीच सहयोग से सम्बंधित एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। इसके अलावा कलकत्ता विश्वविद्यालय तथा दागोन युनिवर्सिटी, यंगून के बीच तथा विश्व मामलों की भारतीय परिषद (आईसीडब्ल्यूए) व एमआईएसआईएस के बीच भी समझौते हुए हैं।

Related Posts: