नई दिल्ली, 23 दिसंबर. कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी मानते हैं कि देश का मुसलमान खस्ताहाल है लेकिन वह इसके लिए किसी पर दोष मढऩे से बचते हैं. वह कहते हैं कि इसके लिए किसी की ओर जवाबदेही की उंगली उठा देने से समस्या का समाधान नहीं होगा.

उनका मानना है कि आजादी के बाद मुसलमानों के विकास के लिए यदि किसी राजनीतिक दल ने कुछ किया तो वह कांग्रेस ही है. वैसे वह इसे भी नाकाफी मानते हैं और कहते हैं अभी भी बहुत कुछ करने की जरूरत है. अल्वी ने  कहा देश में मुसलमानों के हालात अच्छे नहीं हैं. आजादी के बाद मुसलमानों के लिए यदि किसी ने कुछ किया तो वह कांग्रेस पार्टी ही है, हालांकि अभी भी बहुत कुछ करने की जरूरत है. जो किया गया है वह काफी नहीं है. भविष्य में कांग्रेस की सरकार उनको ऊपर उठाने के लिए बहुत कुछ करेगी. यह पूछे जाने पर कि आखिर मुसलमानों की इस बदहाली के लिए जवाबदेह कौन है? वह कहते हैं, जवाबदेही की उंगली उठा देने से समस्या का समाधान नहीं हो जाता. सरकार के साथ-साथ देश के मुसलमानों को भी कोशिश करनी होगी कि हालात सुधरें. मुसलमानों को सरकारी मदद की जरूरत है लेकिन साथ-साथ उन्हें ऊपर उठने के लिए खुद भी कोशिश और मेहनत करनी पड़ेगी.

मुसलमानों के लिए आरक्षण को लेकर जारी बहस पर अल्वी ने कहा कि यह तो बहुत पहले ही हो जाना चाहिए था. देश में मुसलमानों के हालात अच्छे नहीं हैं. फिलहाल अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) कोटे के 27 फीसदी के अंदर ही मुसलमानों के लिए आरक्षण की व्यवस्था की जा सकती है. मुसलमान मतदाताओं को आगाह करते हुए उन्होंने कहा कि देश का मतदाता जब मत डालने जाता है तो वह बिरादरी, धर्म, रिश्तेदारी को आगे रखता है. इस मानसिकता को बदलने की जरूरत है, खासकर मुसलमानों में ऐसा करने की आवश्यकता है. यदि लोग इस सबसे ऊपर उठकर मतदान करेंगे तो उनके क्षेत्र का तो विकास होगा ही, अच्छी विधानसभा और संसद भी गठित होगी और फिर उससे अच्छी सरकारें भी सामने आएंगी.

Related Posts: